कोरोना ने फिर से बदला अपना रूप, डॉक्टरों की बढ़ गई और ज्यादा परेशानी, आइए जाने अब क्या है इस बीमारी की शिकायतें:

दुनिया के पूरे देश कोरो ना जैसे महामारी से अपने मुल्क को किसी न किसी प्रकार से बचाना चाहते हैं। प्रत्येक देश के डॉक्टर इस बीमारी के वैक्सीन बनाने की पूरी तैयारी कर रहे हैं जिससे होने वाली मौतों को तथा फैलने वाले संक्रमण को रोका जा सके। आपको बता दें कि वैज्ञानिकों की एक सबसे बड़ी चिंता रही है कि कोरोना वायरस अपना रूप बदल रहा है। इसी वजह से वैज्ञानिक इस चीज को मॉनिटर करने में जुटे हैं कि SARS-CoV-2 में किस तरह का आनुवांशिक (Genetic) बदलाव हो रहा है। अब इसके बारे में एक अच्छी खबर आई है।
फिर भी वैज्ञानिकों ने यह माना है कि कोरोना में बदलाव तो हो रहे हैं परंतु इतना अधिक बदलाव नहीं हो रहा है जिससे यह कहा जा सके कि बनाया गया व्यक्ति का अब कोई इस्तेमाल नहीं हो सकता।स्विट्जरलैंड के बसेल यूनिवर्सिटी में महामारी मामलों की जानकार एम्मा हॉडक्रॉफ्ट कहती हैं- कोरोना वायरस में जो भी म्यूटेशन हो रहा है या जिस स्पीड से हो रहा है, इसमें घबराने जैसी कोई बात नहीं है। एम्मा हॉडक्रॉफ्ट कहती हैं कि फिलहाल हमें कोई वैक्सीन मिल सकती है। लेकिन बड़ा सवाल है कि क्या वैक्सीन एक बार देना होगा या फिर हर कुछ साल के बाद वैक्सीन को अपडेट करने की जरूरत होगी? हॉडक्रॉफ्ट की मानें तो इस सवाल का जवाब अभी अनिश्चित है, क्योंकि SARS-CoV-2 अभी काफी नया है।समय बीतने के साथ ही इसका पता चलेगा।

Advertisement