शिक्षक भर्ती के मामले मे फर्जीवाड़ा का पर्दाफाश करने वाले एसएसपी का तबादला के बाद भी नहीं मिली कहीं नई पोस्टिंग:

सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज ने 69 हजार सहायक शिक्षक भर्ती में फर्जीवाड़े का खुलासा अपनी टीम के साथ मिलकर किया था। इस मामले में कई गिरफ्तारी भी हुई हैं। अब इस मामले की जांच एसटीएफ कर रही है और फर्जीवाड़े के मुख्य आरोपी चंद्रमा यादव की गिरफ्तारी के प्रयास चल रहे हैं। प्रदेश सरकार ने देर रात को कई अफसरों का तबादला कर दिया है जिनमें सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज भी शामिल है। एसएसपी सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज के ट्रांसफर के बावजूद उनको अभी तक कोई नई जगह की पोस्टिंग नहीं मिल पाई है। और उनके जगह पर नए प्रयाग के एसएसपी अभिषेक दीक्षित को बनाया गया है।
एसएसपी ने शिक्षा जगत की बुनियाद में सेंध लगाकर ईमानदार, परिश्रमी अभ्यर्थियों का हक मारने वाले माफियाओं का तंत्र ध्वस्त करने के लिए एएसपी अशोक वेंकटेश और अनिल यादव को लगाया। कुछ ही घंटे में परिणाम आने शुरू हो गए। शुरुआत में ही पुलिस ने एक कार से जा रहे छह संदिग्धों को साढे सात लाख रुपए के साथ हिरासत में ले लिया। पुलिस अफसरों ने सीबीआई की तरह गैंग में शामिल डॉ. कृष्ण लाल पटेल, स्कूल संचालक ललित त्रिपाठी और लेखपाल संतोष बिंदु को हिरासत में लेकर पूछताछ की और 22 लाख से अधिक कैश बरामद कर लिया।

Advertisement