कोरोना वायरस मरीजों के लिए इलाज के लिए एक नई दवा को मिली मंजूरी

कोरोना वायरस को लेकर अभी तक कोई भी दवा मार्केट में नही आई है. कोरोना को लेकर लगभग सभी सिर्फ खोखले दावे कर रहे है और कुछ नही हो रहा है. अब कोरोना को लेकर कुछ नए लक्षण सामने आये हैं. जिसके बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना की लक्षणों की सूची को संशोधित किया है. उस सूची में अब गंध और स्वाद महसूस नहीं होने को भी कोरोना के लक्षणों में शामिल किया गया है. अब ये भी कहा जा रहा है कि कोरोना को लेकर एक दवा को मंजूरी दे दी गई है.

कोरोना मरीजों के इलाज के लिए एक नई दवा को मंजूरी दी गई है. स्टेरॉयड ड्रग डेक्सामेथासोन असल में मिथाइलप्रेड्निसोलोन का विकल्‍प होगी. इस दवा को मॉडरेट तथा गंभीर लक्षणों वाले मरीजों के इलाज में इस्तेमाल किया जाएगा.  इस दवा का डेक्सामेथासोन का इस्तेमाल गठिया जैसी बीमारियों में जलन कम करने के लिए किया जाता है. इस दवा को इस्तेमाल कोरोना के उन मरीजों पर किया जायेगा जो ऑक्सीजन सपोर्ट पर है.

इस दवा को लेकर हाल में यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफर्ड के शोधकर्ताओं की एक टीम ने कोरोना संक्रमण से झूज रहे 2000 से अधिक लोगो पर इसका प्रयोग किया गया है. इस दवा के इस्तेमाल के बाद जो मरीज वेंटिलेटर पर इलाज करवा रहा है. उसमे 35 प्रतिशत कम मौ’ते हुई है.  विश्व स्वास्थ्य संगठन  का कहना है कि इस दवा का इस्तेमाल गंभीर मरीजों में डॉक्टरों की देखरेख में ही होना चाहिए.

डेक्सामेथासोन दवा WHO की आवश्यक दवाओं की सूची में साल 1977 से लिस्टेड है. डेक्सामेथासोन एक स्टेरॉयड है जिसका उपयोग सांस की समस्या, एलर्जिक रिएक्शन, ऑर्थराइटिस, हार्मोन या इम्यूनिटी सिस्टम डिसऑर्डर और सूजन के इलाज के लिए किया जाता है.



Advertisement