कांग्रेस की कार्यशैली पर सवाल उठाने के कारण सोनिया गाँधी ने वरिष्ठ नेता संजय झा को दी ये सजा

कहने को तो कांग्रेस भारत की सबसे पुरानी पार्टी है और दूसरों पर तानाशाही और अलोकतांत्रिक होने का आरोप लगाती है. लेकिन खुद अब तक एक परिवार की गुलामी से बहार नहीं निकल पाई है. ऐसा लगता है कांग्रेस के अन्दर राजशाही है. राजपरिवार पर सवाल खड़े करना कान्ग्रेस मे सबसे बड़ा गुनाह है. तभी तो कांग्रेस पार्टी की कार्यशैली पर सवाल खड़े करने की वजह से पार्टी ने अपने वरिष्ठ नेता और प्रवक्ता संजय झा को प्रवक्ता पद से हटा दिया. संजय झा ने एक टीवी इंटरव्यू में कांग्रेस पार्टी की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा था कि पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र का अभाव है. इसके अलावा उन्होंने चीन के साथ तनाव को लेकर भी राजनीति छोड़ सरकार के साथ खड़े होने का सुझाव दिया था.

कांग्रेस पार्टी की तरफ से जारी एक चिट्ठी में कहा गया, ‘कांग्रेस अध्यक्ष ने अभिषेक दत्त और साधना भारती को कांग्रेस के नैशनल मीडिया पैनलिस्ट के रूप में नियुक्ती को मंजूरी दी है. कांग्रेस प्रेजिडेंट ने संजय झा को कांग्रेस प्रवक्ता के पद से तत्काल प्रभाव से हटा दिया है.’ ये चिट्ठी कांग्रेस पार्टी के ट्विटर अकाउंट से शेयर की गई जिसके बाद ये चिट्ठी वायरल हो गई और लोग कांग्रेस पार्टी पर सवाल उठाने लगे.

चीन के साथ तनाव को लेकर संजय खा ने हाल ही में ट्वीट कर लिखा था, ‘यह समय चीन के खतरनाक अतिक्रमण के खिलाफ भारत में बिल्कुल परिपक्व राजनीतिक एकजुटता का है. मोदीजी ने हमारी कांग्रेस/यूपीए सरकार के बारे में अतीत में कई बार अपमानजनक बातें कहीं जिसकी मुझे बिल्कुल परवाह नहीं है. हमें इससे ऊपर उठना है. हमें बदलना होगा. हमें एकजुट होना है.’



Advertisement