कोरोना महामारी के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रवासी मजदूरों को लेकर किया बड़ा ऐलान, अब उन्हें गाँव में ही..

देश में कोरोना का संकट लगातार बरकरार है. भारत में अब हर दिन 10 हजार से ज्यादा मरीज बढ़ रहे हैं जिसके बाद अब देश में कुल मरीजों की संख्या 3 लाख 66 हजार के पार हो चली है. देश में इस समय अगर सबसे ज्यादा स्थिति खराब है तो वो महाराष्ट्र में है. पिछले 24 घंटे में अब तक के सबसे ज्यादा कोरोना मरीज सामने आये हैं जिसने सरकार की चिंता बढ़ा दी है.

जानकारी के लिए बता दें इस महामारी के बीच केंद्र सरकार और राज्य सरकारें मिलकर एक के बाद एक बड़े कदम उठा रही हैं ताकि लोगों को बचाया जा सके. भारत के लिए सबसे अच्छी खबर यही है कि हमारे यहाँ मरीज ठीक होने की दर भी करीब 60 प्रतिशत है. महाराष्ट्र के बाद अब देश की राजधानी दिल्ली के हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं. दिल्ली में हर दिन हजारों की संख्या में मरीज बढ़ रहे हैं. इसी बीच देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रवासी मजदूरों को लेकर बड़ा ऐलान किया है.

दरअसल कोरोना महामारी के चलते अन्य राज्यों में फंसे प्रवासी अधिकतर प्रवासी मजदूरों को सरकार उनके घर तक पहुंचा चुकी है. ऐसी स्थिति में हर व्यक्ति अपना काम छोड़कर घर पहुंच गया है. तो वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरूवार को गरीब कल्याण रोजगार अभियान के बारे में जानकारी देते हुए प्रवासी मजदूरों को लेकर ऐलान किये हैं. देश के 6 राज्यों के 116 जिलों में सबसे ज्यादा प्रवासी मजदूर अपने शहर लौटे हैं. अब पीएम मोदी 20 जून को गरीब कल्याण रोजगार अभियान योजना को लांच करने जा रहे हैं. जिसकी शुरुआत खगड़िया जिले से होगी. अब वो लोग अपने गाँव में ही काम कर सकेंगे.

गौरतलब है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि ये अभियान 125 दिन चलेगा, जिसके अंतर्गत जल जीवन मिशन योजना और आवास योजना जैसी योजनाओं पर काम किया जायेगा. उन्होंने कहा है कि हमने 25 तरह के काम तय किये हैं जोकि प्रवासी मजदूरों को दिए जायेंगे. 125 दिनों में प्रोजेक्ट पर काम किया जायेगा और उसे खत्म किया जायेगा. जिसमें सड़क बनाना, पंचायत बिल्डिंग बनाना और कुआ खोदने जैसे एसेट बनाये जायेंगे. सरकार गरीब मजदूरों की जोजी रोटी का भी विशेष ख्याल रखेगी. अब सरकार की इस योजना के अंतर्गत जो भी बाहर से लौटे हुए मजदूर हैं काम करना चाहते हैं उन्हें काम दिया जायेगा.



Advertisement