भारत- चीन हिंसक झड़प के बाद भारतीय सैनिकों को मिला पूर्णता छूट, अब सेना देगी ईट का जवाब पत्थर से:

बीते दिनों हुए भारत और चीन के हिंसक झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए तथा चीन ने अपने 43 जवानों की कुर्बानी दी। सूत्रों से पता चला है कि अब पूरी लद्दाख क्षेत्र में उपस्थित सेना को पूरी छूट दे दी गई है कि वह अपने फैसले मौजूदा हालात को देखकर कर सकते हैं।वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर सैनिकों की संख्या बढ़ाई गई है। वहीं श्रीनगर-लेह हाईवे पर गांदरबल से आगे वाहनों की आम आवाजाही रोक दी गई है। केवल जरूरी वाहनों को छूट है।
झड़प के बाद बातचीत के दौरान बैठे हैं रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह तथा सीडीएस जनरल बिपिन रावत तथा तीनों सेनाओं के प्रमुख ने मिलकर आपस में बात किए जिसके दौरान रक्षा मंत्री ने यह ऐलान किया कि बलवान घाटी में उपस्थित सेना को पूरी छूट दी जाती है कि वह अपने फैसले मौजूदा हालात को देखकर कर सकते हैं और उनके ऊपर कोई दबाव नहीं है रहेगा।
उन्होंने कहा, 'राष्ट्र उनकी बहादुरी और बलिदान को कभी नहीं भूलेगा। मैं शहीद हुए सैनिकों के परिवारों के साथ खड़ा हूं। राष्ट्र इस कठिन घड़ी में उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है। हमें भारत की वीरता के शौर्य और साहस पर गर्व है। गलवां घाटी में सैनिकों की शहादत परेशान करने वाली और दुखदायी है। हमारे सैनिकों ने अनुकरणीय साहस और वीरता को प्रदर्शित किया और भारतीय सेना की सर्वोच्च परंपराओं में अपने जीवन का बलिदान दिया।'

Advertisement