कोरोना टेस्टिंग को गाँव-कस्बे तक पहुँचाने के लिए केंद्र सरकार ने लांच की ये मोबाइल लैब

देश में कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते मामलों के बीच अब टेस्टिंग को रफ्तार देने की कोशिश की जा रही है. जिसको लेकर गृह मंत्री अमित शाह ने भी टेस्टींग को बढ़ाने के लिए बोल दिया है. अब डॉ हर्षवर्धन ने कोरोना की टेस्टिंग को बढ़ाने के लिए एक मोबाइल लैब को लॉन्च किया है. जो कोरोना की टेस्टिंग में काम आयेगी.  

कोरोना की टेस्टिंग के लिए लॉन्च की गई लैब देश की ऐसी पहेली लैब है जो अपने देश  के अंदर बनाई गई है. जानकारी के अनुसार, इस मोबाइल लैब में रोज कोरोना वायरस के 25 टेस्ट RT-PCR तकनीक से, 300 टेस्ट ELISA तकनीक से हो सकेंगे. इसके अलावा टीबी और HIV से जुड़े कुछ टेस्ट भी किए जा सकेंगे. मोबाइल लैब को आधुनिक सुविधा से तैयार किया गया है.

सरकार ने बताया है कि इन लैब का इस्तेमाल ऐसी जगहों के लिए किया जायेगा. जहां पर कोरोना मरीजो की जांच करने की सुविधा नही है. यानी गांव-कस्बों में भी इसका इस्तेमाल किया जा सकेगा.  इस दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि ‘हमारे देश में फरवरी में सिर्फ एक ही लैब थी, लेकिन आज हमारे पास 953 लैब हैं. इनमें से करीब 700 लैब सरकारी हैं, ऐसे में अब देश में कोरोना वायरस के टेस्ट ज्यादा होंगे’.

इस लैब को लेकर डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि ये लैब उन जगह पर ज्यादा उपयोग होंगी जहां पर कोरोना की टेस्टिंग सही ढंग से नही हो पा रही है. वहां पर इस तरह की लैब काफी कारगर साबित होगी. देश में अभी तक कोरोना वायरस से कुल 63 लाख टेस्ट हो चुके है. इस मोबाइल लैब से कोरोना की टेस्टिंग को लेकर अब और भी आराम हो जायेगी.



Advertisement