सड़क किनारे बैठ कर गरीबों के बीच खाना खा रहा था अंग्रेज, सच्चाई जानकर आपके होश उड़ जाएंगे होश, खूब वायरल हो रहा है इसका फोटो:

आपको बता दें कि यह घटना झारखंड के मजदूरों की है जो अपनी मांगों को लेकर सड़क पर धरना प्रदर्शन कर रहे थे, दिल्ली के जंतर मंतर के सामने उनका धरना प्रदर्शन 11-15 सितंबर तक चला। 14 सितंबर की दोपहर धरना- प्रदर्शनकर्ताओं के लिए 1 गाड़ी भरकर खाना आया। जब सब लोग सड़क के किनारे बैठकर खा रहे थे तो ज्यां ने भी एक कटोरी मांगी और उनके बीच बैठकर खाने लगे, लेकिन दीपक ने उन्हे पहचान लिया और उन्हे भर पेट खाना खिलाने की कोशिश की, लेकिन ज्यां ने ये कहकर अधिक रोटी लेने से मना कर दिया कि सभी के लिए 2 रोटियां ही आई है तो मैं भी 2 रोटी ही खाउंगा।

बता दें कि ज्यां बेल्जियम में पैदा हुए और महज़ 20 साल की उम्र में भारत आ गए। वर्ष 1979 से ही ज्यां भारत में रहने लगे और साल 2000 में उन्हे भारत की नागरिकता मिली।

14 सितंबर की दोपहर धरना- प्रदर्शनकर्ताओं के लिए 1 गाड़ी भरकर खाना आया। जब सब लोग सड़क के किनारे बैठकर खा रहे थे तो ज्यां ने भी एक कटोरी मांगी और उनके बीच बैठकर खाने लगे, लेकिन दीपक ने उन्हे पहचान लिया और उन्हे भर पेट खाना खिलाने की कोशिश की, लेकिन ज्यां ने ये कहकर अधिक रोटी लेने से मना कर दिया कि सभी के लिए 2 रोटियां ही आई है तो मैं भी 2 रोटी ही खाउंगा।

ज्यां ने दिल्ली के इंडियन स्टैटिस्टिकल इंस्टिट्यूट से अपनी पीएचडी की डिग्री ली और अब वे रांची विश्वद्यालय में पढ़ाते हैं। उसके अलावा ज्यां दिल्ली यूनिवर्सिटी व दुनिया के कई विश्वविद्यालयों में विज़िटिंग लेक्चरार हैं। अर्थशास्त्र पर ज्यां की करीब 12 किताबें भी छप चुकी हैं और वे नोबल पुरुस्कार से सम्मानित लेखक अमत्या सेन के साथ मिलकर भी कई किताबें लिख चुके हैं।

Advertisement