चीन के साथ हिंसक झड़प के बाद, कांग्रेस बीजेपी पर वार, लादे जा रहे हैं सालों के सवाल:

भारत और चीन के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद भारत में दो विरोधी पार्टियों के बीच लगातार टक्कर टक्कर होता है वह दिखाई दे रहा है। आपको बता देंगे बीजेपी सरकार कांग्रेसमें अपनी सारी गर्माहट निकाल रही है, तो वहीं कुछ ना कर दिखाने वाला कांग्रेस पार्टी लगातार बीजेपी पार्टी पर अपनी सारी भड़ास को भी निकाल रहा है।
आपको बता दें कि संसद में कांग्रेस पार्टी के नेताओं द्वारा बीजेपी पर सिर्फ सवालों के बोझ लादे जा रहे हैं, कांग्रेस ने बीजेपी और चीन की सीसीपी के बीच के रिश्तों को लेकर सवाल पूछा है। कांग्रेस ने कहा कि 2007 में बीजेपी के तत्कालीन अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने चीन की सीसीपी पार्टी के प्रतिनिधियों के दौरे पर खुद इस बात को कहा था।
कांग्रेस ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए सवाल किया कि गुजरात के मुख्यमंत्री रहने के दौरान नरेंद्र मोदी 4 बार और प्रधानमंत्री के तौर पर 5 बार चीन के दौरे पर क्यों गए और इस दौरान किया? कांग्रेस ने बीजेपी से सवाल पूछा है कि क्या बीजेपी आरएसएस को मिले सभी जान और दानकर्ताओं और विदेशों से मिले फंड की जानकारी सार्वजनिक कर सकती है?
इसके साथ क्या बीजेपी विवेकानंद फाउंडेशन और इंडिया फाउंडेशन के सभी दानकार्ताओं के नाम सार्वजनिक कर सकती है? कांग्रेस ने सवाल किया कि क्या बीजेपी उन दानकार्ताओं के नाम को सार्वजनिक कर सकती है, जिन्होंने चुनावी बॉन्ड के जरिए उन्हें डोनेशन दिया है। क्या उन फंड की जानकारी सार्वजनिक कर सकती है, जो उसे विदेशों से खासकर चीन से मिले हैं। कांग्रेस ने सवाल किया कि क्या बीजेपी इस बात को सार्वजनिक कर सकती है कि उसे और RSS को पिछले 6 सालों में कितना विदेशी फंड मिला है।

Advertisement