चीन से आए रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका से टकराव तय, आइए जाने क्या है कारण:

भारत और चीन के बीच का में लगातार तनाव बनते जा रहे हैं जिससे इन दोनों देशों के बीच यह परिणाम युद्ध भी हो सकता है। आपको बता देंगे चीन एक ऐसा देश है जिसके साथ उसके सीमा से सटे सारे देशों से सीमा विवाद में फंसा हुआ है। अमेरिका की विदेश मंत्री ने एक बयान में जाहिर किया था कि चीन और अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है इसलिए दुनिया के देशों को मिलकर उसको सबक सिखाना ही पड़ेगा।
आपको बता दें कि न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट चौंकाने वाली हो सकती है। इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि अमेरिका और चीन के बीच सैन्‍य संघर्ष तय है। रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन की आक्रामकता व विस्‍तारवादी नीति भविष्‍य में एक नए संकट की दस्‍तक है। अगर चीन का यही रुख रहा तो भविष्‍य में अमेरिका और चीन के बीच टकराव पक्‍का है। चीन के इरादे बताते हैं कि वह संघर्ष करने के पूरे मूड में है। जिस तरह से चीन ने हिमालय से लेकर दक्षिण चीन सागर तक आक्रामक तरीके से दावेदारी पेश की है, उससे भविष्‍य में अमेरिका के साथ उसका संघर्ष तय माना जा रहा है।
खास बात यह है कि दक्षिण चीन सागर में चीन का मुकाबला करने के लिए अमेरिका ने भी इस क्षेत्र में अपनी सैन्य गतिविधियां बढ़ा दी हैं। अमेरिका ने दक्षिण चीन सागर के माध्यम से अमेरिकी युद्धपोतों को ताइवान की ओर रवाना किया है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ की चीन ने शीर्ष राजनयिक यांग जीची से मिलने के बाद अमेरिका ने ताइवान को सैन्‍य मुद्दों के लिए समर्थन बढ़ाया है। उधर, चीन ने इस क्षेत्र में तनाव के लिए संयुक्त राज्य को दोषी ठहराया है। चीन ने अमेरिकी सेना पर नियमित रूप से उस क्षेत्र में हस्तक्षेप करने का आरोप लगाया, जहां उसके कोई क्षेत्रीय दावे नहीं हैं।

Advertisement