देश के लिए शहीद हुए संतोष बाबू के घर में मचा कोहराम , अपनी बेटी का मुंह भी नहीं देख पाया देश का सच्चा अभिनेता:

पूर्वी लद्दाख के गालवानी घाटी में सोमवार को हुए चाइना और भारत के हिंसक झड़प में संतोष बाबू के साथ 20 जवान शहीद हो गए। चीन के 43 सैनिकों की जान चली गई 
जान गवाने वालो में तेलंगाना के कर्नल संतोष बाबू 18 महीने से लद्दाख में भारतीय सीमा की सुरक्षा में तैनात थे। 
सैन्य सूत्रों के मुताबिक, लद्दाख में पेट्रोलिंग प्वाइंट 14 पर कर्नल संतोष, शहीद कुंदन और हवलदार पलानी के साथ चीन के सैनिकों की झड़प हुई थी। शहीद संतोष बाबू तेलंगाना के सूर्यापेट के रहने वाले थे। संतोष बाबू के घर में मातम छा गया है। उनकी मां ने कहा- ''मैं दुखी हूं, क्योंकि इकलौता बेटा खो दिया।

लेकिन उसने देश के लिए कुर्बानी दी, इस पर गर्व है।''

वहीं, संतोष के शहीद होने की खबर सुन कर सास अचानक बेहोश हो कर नीचे गिरी। उसे अस्पताल में भर्ती किया गया। कर्नल संतोष के परिवार में पत्नी, एक बेटा और एक बेटी हैं। उनके पिता फिजिकल एजुकेशन टीचर हैं। शहीद संतोष ने हैदराबाद के सैनिक स्कूल में पढ़ाई की, फिर वे एनडीए के लिए चुने गए थे।,

Advertisement