गलवान घाटी में सैनिकों के नि’हत्थे होने के दावे पर विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने दिया राहुल गांधी को ती’खा जवाब

गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सेना के बीच हुई हिं’सक झ’ड़प में 1 अफसर सहित 20 जवान श’हीद हो गए. जिसके बाद से ही देश भर में चीन के इस धो’खे को लेकर लोगो में गुस्सा’ है और इसी वजह से लोगो ने जगह जगह पर प्रद’र्शन भी किया. साथ ही इस मामले पर वि’पक्ष ने अपनी राजनीतिक रोटियां सेकते हुए मोदी सरकार पर भी नि’शाना सा’धा. साथ ही कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने भारतीय सैनिकों को नि’हत्थे होने का दावा दिया है.

जिस पर विदेश मंत्री एस. जयशंकर  ने राहुल गाँधी  के ट्वीट पर रीट्वीट करते हुए कहा कि हमें त’थ्यों को ठीक से समझ लेना चाहिए. बॉर्डर ड्यूटी पर लगे सभी सैनिक हमेशा ह’थियार के साथ होते हैं.  खासकर पोस्ट से निकलते वक्त. 15 जून को गलवान में ड्यूटी पर तैनात सैनिकों के पास भी हथि’यार थे.  साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि गति’रोध के वक्त हथि’यारों का इस्तेमाल नहीं करने की लंबी परंपरा (19966 और 2005 समझौतों के तहत) रही है. इसी लिए हमारे जवानो ने हथिया’रों का प्रयोग नहीं किया.

बता दें राहुल गाँधी ने अपने ट्विटर पर ट्वीट करते हुए सवाल किये थे. जिसमें उन्होंने कहा था कि चीन ने हमारे नि’हत्थे सैनिकों की ह’त्या की हि’म्मत कैसे की? हमारे सैनिकों को श’हादत के लिए नि’हत्था क्यों भेजा गया? इसके अलावा उन्होंने अपने अकाउंट पर एक वीडियो भी शेयर की जिसमें उन्होंने लिखा कि कौन जिम्मेदार?.

जाहिर है देशभर में गलवान घाटी में घटी घ’टना को लेकर त’नाव की स्थिति बनी हुई है. उस पर विपक्षी पार्टी सरकार के साथ खड़ी होकर एक साथ चीन के खि’लाफ लड़ने के बजाय बयानबाजी और सवाल जवाब करने में उलझी हुई है.



Advertisement