गलवान घाटी में मारे गए चीनी जवानो के परिजनों में गुस्सा, जवाब देने से बच रही है चीनी सरकार

गलवान घाटी में हुए चीन और भारतीय सेना के बीच हुए हिंसक झड़पों में चीन को बहुत बड़ा सैन्य नुकसान झेलना पड़ा है. विगत 15 जून को घाटी पर हुए सैन्य संघर्ष में भारत ने 20 भारतीय जवानों की शहादत को स्वीकारा लेकिन वही चीनी सरकार जनता और मृतक जवानों के परिजनों के सवालों का जवाब देने के बजाय चुप्पी साधे हुए है.


            अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक चीन की सरकार को मृतक जवानो के परिजनों को चुप करने में काफी मेहनत करनी पड़ रही है चीन के कम्युनिस्ट पार्टी के फैसले और सरकार की चुप्पी से मृतक जवानो के परिजन काफी नाराज है. चीनी सरकार टाल मटोल वाले अंदाज में जवाब देते हुए केवल कुछ ही अधिकारियों के मारे जाने की बात स्वीकार रहा है. गुस्साए परिजन सोशल मीडिया पर अपना गुस्सा और खीझ व्यक्त कर रहे हैं. सरकारी चीनी अखबार के संपादक हू शीजीन के मुताबिक लद्दाख में हुए सैन्य तनाव के चलते बड़ी संख्या में चीनी जवान मारे गए हैं. वही भारत सरकार और भारतीय सेना के अधिकारियों के अनुसार 43 चीनी सैनिक  मारे गए है.

Advertisement