शिवसेना का भारतीय जनता पार्टी पर निशाना, प्रवासी मजदूरों के फंसे होने का बनाया मुद्दा:

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए मुंबई सरकार बेहद ही चिंतित है। आपको बता दें कि भारत में सबसे अधिक मामले महाराष्ट्र से ही निकल कर आ रहे हैं।
इसी बीच सियासत ओं का भी आपस में तनाव तथा झड़प लगातार चलता जा रहा है। शिवसेना ने बीजेपी को निशाना बनाते हुए महाराष्ट्र में फंसे प्रवासी मजदूरों की चिंता का विषय उठाया।शिवसेना ने मुंबई केकेंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को निशाना बनाकर कहा कि अगर उत्तर प्रदेश और बिहार में मुंबई जैसा स्मार्ट शहर बना दिया जाए तो मुंबई में जनसंख्या घनत्व ऐसे ही कम हो जाएगा।
संपादकीय में यह भी दावा किया गया कि मुंबई देश के राजकोष में महत्त्वपूर्ण योगदान देता है, लेकिन कोविड-19 के खिलाफ जंग में उसे केंद्र से उचित आर्थिक सहायता नहीं प्राप्त हुई. गडकरी ने कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों का संदर्भ देते हुए पिछले महीने कहा था कि मुंबई से भीड़ कम करने की जरूरत है क्योंकि घनी आबादी वाला यह शहर विनाशकारी परिणामों का सामना कर रहा है. इसके जवाब में शिवसेना ने सोमवार को कहा, 'अगर आप उत्तर प्रदेश बिहार में मुंबई पुणे जैसे स्मार्ट शहर बना लें, तो इन दोनों शहरों का जनसंख्या घनत्व अपने आप कम हो जाएगा. पहले उन राज्यों में रोजगार पैदा करना होगा।

Advertisement