हिन्द महासागर में चीन का बढ़ता खतरा, निपटने के लिए भारत और जापान की नौसेना ने किया संयुक्त युद्धाभ्यास

 
भारत और चीन में गलवान घाटी हमले के कारण तनाव की स्थिति है साथ ही हिन्द महासागर में भी चीन का खतरा बढ़ता जा रहा है. इन तनावों और खतरों से निपटने के लिए जापान और भारत के नौसेना ने संयुक्त युद्धाभ्यास किया,इस संयुक्त युद्धाभ्यास के दौरान दोनों देशों के लड़ाकू विमान और युद्धपोत का प्रयोग किया गया.



नेशनल मेरीटाइम फाउंडेशन के महानिदेशक ने वाइस एडमिरल: प्रदीप चौहान ने कहा "भारतीय और जापानी सेना युद्ध की वजह से नहीं बल्कि हिन्द महासागर में बढ़ते हुए चीन के खतरे को काम करने के लिए युद्धाभ्यास कर रही है, हालाँकि पूर्वी चीन सागर में दीपों को लेकर चीन का जापान से भी विवाद है". डोकलाम विवाद के बाद जापान ने भी भारत का अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सार्वजनिक रूप से समर्थन दिया था. फिलहाल ये युद्धाभ्यास एक रूटीन अभ्यास की तरह था. इस युद्धाभ्यास में भारत के दो युद्धपोत आईएनएस राणा व आईएनएस कुलुश और जापान के JS करिश्मा व JS शिमायुकि भी शामिल थे.

Advertisement