चीन और पाकिस्तान ने मिलाया हाथ? POK में पाकिस्तानी वायुसेना एयरबेस पर दिखा चीन का एयरक्राफ्ट

भारत और चीन के बीच जारी तनाव में पाकिस्तान अपने लिए मौका देख रहा है. भारत से चार यु’द्ध हार चुके पाकिस्तान ने अब भारत को परेशान करने के लिए चीन के साथ हाथ मिला लिया है. ये सवाल यूँ ही नहीं है बल्कि POK में पाकिस्तानी वायुसेना के एयरबेस पर चीनी वायुसेना के एक रिफ्यूलर एयरक्राफ्ट को देखा गया. ये इस बात का संकेत है कि अगर भारत और चीन में जं’ग की सूरत बनी तो पाकिस्तान POK में स्थित अपने एयरबेस को चीन की वायुसेना के हवाले कर सकता है. इस स्थिति को देखते हुए भारतीय वायुसेना पूरी तरह से सतर्क है और अब चीन समा के साथ साथ पाकिस्तान से लगती सीमा पर भी निगरानी बढ़ा दी गई है. भारतीय वायुसेना अब दोनों ही मोर्चों पर निपटने की पूरी तैयारी कर चुकी है.

पिछले सप्ताह चीन की एयरफोर्स पीएलएएएफ का एक रिफ्यूलर एयरक्राफ्ट पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के स्कर्दू में उतरा था. स्कूर्दु एयरबेस की दूरी लेह से मात्र 100 किलोमीटर है. हाल ही में पाकिस्तान ने चीन की मदद से इस एयरबेस का विस्तार किया है. ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि जं’ग की स्थिति में चीन की वायुसेना POK में स्थित पाकिस्तानी वायुसेना के ठिकानों का इस्तेमाल कर सकती है. हालाँकि दोनों ही तरफ के संभावित ख’तरों को देखते ही वायुसेना पूरी तरह तैयार है. पाकिस्तान और चीन से लगती सीमा के नजदीक स्थित सभी एयरबेस को अलर्ट पर रखा गया है. भारतीयत वायुसेना के ल’ड़ाकू विमान और हेलीकॉप्टर सीमा पर पूरी निगरानी रखे हुए है.

भारतीय वायुसेना ने सीमाई इलाकों एडवांस मि’साइल डिफेंस सिस्‍टम तैनात कर दिया है. अब पूरे सेक्‍टर में एडवांस्‍ड क्विक रिएक्‍शन वाला सरफेस-टू-एयर मि’साइल डिफेंस सिस्‍टम मौजूद है जो पाकिस्तान और चीन के किसी भी फाइटर जेट को कुछ सेकेंड्स में त’बाह कर सकता है. आर्मी ने पूर्वी लद्दाख में ‘आकाश’ मिसाइलें भी तैनात कर दी हैं जो किसी भी तेज रफ्तार एयरक्राफ्ट या ड्रोन को सेकेंड्स में धुल में मिला सकती है. इसमें कई मॉडिफिकेशंस और अपग्रेड किए गए हैं ताकि इसे पहाड़ी इलाकों में भी उसी एक्‍युरेसी के साथ यूज किया जा सके.



Advertisement