संदिग्ध मरीज होटल में आइसोलेट होकर करा सकेंगे इलाज, सरकार ने तय की एल-1 प्लस सुविधा की दर

लखनऊ. कोरोना वायरस (Corona Virus) के संदिग्ध मरीजों को आइसोलेट करने के लिए होटल में कोविड रूम बुक किए जा रहे हैं। लखनऊ सहित अन्य शहरों में इसकी बढ़ती मांग को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने कोरोना रहित संदिग्ध मरीजों के लिए एल-1 प्लस सुविधा संबंधित अधिकतम दरें तय की हैं। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि सरकार ने ज्यादा सुविधाएं चाहने वाले कोरोना के लक्षण रहित संदिग्ध मरीजों के लिए लखनऊ और गाजियाबाद में एल-1 प्लस एक 'सेमी पेड फैसिलिटी' की शुरुआत की थी। इसके तहत लोगों को होटलों में इलाज की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। अन्य शहरों में भी इस सुविधा को शुरू करने की बढ़ती मांग को देखते हुए सरकार ने पूरे प्रदेश में यह शआसनादेश लागू कर दिया है।

अधिकतम दरें भी निर्धारित

अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि डबल ऑक्युपेंसी बेड का रेट 2000 रुपये निर्धारित किया गया है। 2000 रुपये प्रतिदिन प्रति व्यक्ति को देना होगा। इससे ज्यादा शुल्क नहीं लगेगा।अगर होटल के एक कमरे में दो लोग रह रहे हैं तो खाने और रहने के लिए 1,000 रुपये प्रति व्यक्ति प्रतिदिन से ज्यादा नहीं लिया जाएगा। इसके अलावा 10 दिन रहने के लिए चिकित्सा सुविधाओं के लिए 2,000 रुपये प्रति व्यक्ति टोकन मनी ली जाएगी। उन्हें चिकित्सा सुविधा मुहैया कराने के लिए डॉक्टर और अन्य चिकित्सा कर्मी मौजूद रहेंगे।

हर जिले में इंटीग्रेटेड कोविड कंट्रोल सेंटर स्थापित करने का आदेश

मरीजों को मिलने वाली सुविधाओं का दायरा बढ़ाते हुए हर जिले में इंटीग्रेटेड कोविड कंट्रोल और कमांड सेंटर स्थापित करने का आदेश भी दिया गया है। इसमें कोरोना ही नहीं संक्रामक रोग के बारे में चले रहे सर्विलांस, जांच, चिकित्सा कर्मियों व अन्य सभी कामों का ब्योरा संबंधित विभाग के लोग देंगे। जिले में कोरोना संक्रमण नियंत्रण की कार्रवाई भी इसी कंट्रोल रूम के माधयम से होगी।

ये भी पढ़ें: कोरोना संक्रमण ने छीना सपना, वेटलिफ्टिंग में करियर अधूरा



Advertisement