कानपुर एनकाउंटर: पुलिस ने पकड़ा विकास दुबे के 1 साथी, जिस ने खोला सारी सच्चाई पढ़े विस्तार से:

उत्तर प्रदेश के कानपुर में हुए पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ में 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए तथा 7 पुलिसकर्मियों को घर बता जा रहा है। आपको बता दें कि इस घटना को अंजाम देने वाला मुख्य शख्स विकास दुबे पर सरकार ने पूरी तरह से ऐलान कर दिया है कि पकड़ आने वाले व्यक्ति को ₹100000 का इनाम दिया जाएगा।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का बयान है कि जल्द से जल्द इस मुलजिम को पकड़कर कड़ी से कड़ी सजा दिलाना होगा। जिसके पश्चात पूरी पुलिस फोर्स इस घटना के कार्रवाई करने में जुटी हुई है।

विकास का कानपुर स्थित घर और कारें जमींदोज करने के बाद रविवार सुबह पुलिस को एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी। पुलिस ने विकास दुबे के साथी और इस घटना में शामिल बताए जा रहे दयाशंकर अग्नीहोत्री उर्फ कल्लू को गिरफ्तार कर लिया है। बताया जा रहा है पुलिस मुठभेड़ के दौरान दयाशंकर की गिरफ्तारी हुई है। दयाशंकर के पैर में गोली भी लगी है।

गिरफ्तारी के बाद दयाशंकर से पुलिस को कई राज पता चल गए हैं। उसने पुलिस को कई अहम जानकारियां दी हैं। कल्लू ने पुलिस को बताया कि दबिश की सूचना पुलिस ने ही विकास दुबे को दी थी।

विकास दुबे के एक करीबी के मुताबिक वह जब भी बिकरू आता था, उसके लोग पहले से ही कोठी पर तैनात हो जाते थे। गांव, आसपास के गांव या फिर शहर में किसी को धमकी देनी होती या कोई आपराधिक डील करनी होती थी तो वह अपने लोगों के जरिए संबंधित इंसान तक संदेश पहुंच देता था। कभी मोबाइल का प्रयोग करना भी पड़ता था तो सिम का इस्तेमाल कर तोड़कर फेंक देता था। हैंडसेट के साथ ही उसका सिम भी बदल दिया जाता था। सालों से वह इसी तरह काम कर रहा था, जिससे मोबाइल की आदत लगभग छूट गई थी। पुलिस उसके मिलने वाले 100 लोगों के नम्बर पर होने वाली बातचीत लगातार सुन रही है। 2200 नम्बर सर्विलांस पर हैं। बीते 48 घंटों में फोन पर विकास दुबे ने किसी से सम्पर्क नहीं किया है। मुखबिर तंत्र कमजोर होने के कारण फील्ड से भी सूचनाएं कम ही मिल पा रही हैं।

Advertisement