दिल्ली-वाराणसी कॉरिडोर का गौतमबुद्ध नगर में होगा पहला स्टेशन, दिल्ली से जेवर एयरपोर्ट पहुंचने में लगेंगे मात्र 20 मिनट

नोएडा. मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेल कॉरिडोर के बाद रेल मंत्रालय दिल्ली-वाराणसी कॉरिडोर पर हाई स्पीड रेल दौड़ाने की तैयारी कर रहा है। केंद्र सरकार ने दिल्ली-नोएडा-आगरा-लखनऊ से वाराणसी तक हाई स्पीड रेल चलाने की योजना बनाई है। अगर ये परियोजना परवान चढ़ती है तो गौतमबुद्ध नगर जिले के नाम एक और उपलब्धि जल्द ही जुड़ जाएगी। दिल्ली-वाराणसी कॉरिडोर का पहला स्टेशन यमुना प्राधिकरण के जेवर क्षेत्र होगा। बताया जा रहा है कि जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट की कनेक्टिविटी को देखते हुए जेवर क्षेत्र में स्टेशन बनाने की योजना है।

यह भी पढ़ें- नोएडा में 'आप' जिलाध्यक्ष पर FIR, संजय सिंह ने बोले- योगी जी इतनी जल्दी डर गए कि मुदकमा लिखना शुरू कर दिया

दिल्ली-वाराणसी कॉरिडोर पर हाई स्पीड रेल के लिए रेल मंत्रालय ने नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड (एनएचएसआरसी) को डीपीआर बनाने के निर्देश दिए हैं। एनएचएसआरसी ने इस पर काम शुरू कर दिया है और प्रारंभिक रिपोर्ट तैयार कर ली है, जिसमें नोएडा एयरपोर्ट के पास स्टॉपेज प्रस्तावित किया है। रेल मंत्रालय ने पिछले माह यमुना अथॉरिटी के चेयरमैन आलोक टंडन के नाम पत्र जारी कर सूचना दी थी कि दिल्ली, नोएडा, आगरा, लखनऊ और वाराणसी के बीच हाईस्पीड ट्रेन का रूट प्रस्तावित है। इसकी डीपीआर बनाने का काम भी जल्द शुरू होना है। इस परियोजना को देखते हुए रेल मंत्रालय ने यमुना अथॉरिटी से अपना नोडल अधिकारी तैनात करने को कहा था। इस पर अथॉरिटी ने एसीईओ को अपना नोडल अधिकारी बनाया है।

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से वाराणसी के बीच हाईस्पीड ट्रेन का यह रूट एलिवेटेड होगा। इस आधुनिक रेल सेवा से दिल्ली व नोएडा एयरपोर्ट के जुड़ जाने से हवाई सफर करने वाले हजारों लोगों को बड़ी राहत मिल जाएगी। जेवर स्टेशन का सीधा फायदा गौतमबुद्ध नगर व गाजियाबाद की लाखों की आबादी को होगा। दिल्ली के बजाए गौतमबुद्ध नगर के स्टेशन से वह गंतव्य के लिए हाई स्पीड रेल का सफर कर सकेंगे। इस कॉरिडोर में जेवर में स्टापेज बनने से एयरपोर्ट तक इसे पहुंचाने में पैसा भी कम लगेगा। साथ ही, लोग 20 मिनट में दिल्ली से जेवर एयरपोर्ट पहुंच सकेंगे।

यह भी पढ़ें- लॉकडाउन में रुके विकास कार्यों ने पकड़ी रफ्तार



Advertisement