जिस ब्रिटेन की संसद ने लगाया था आर्टिकल 370 के ऊपर विरोध, उसके ही ग्रुप पर लगा आरोप पाकिस्तान से लिया गया है पैसा पढ़े पूरी खबर:

जम्मू कश्मीर के सभी नियमों को बदलने के पश्चात केंद्र सरकार द्वारा उस पर आर्टिकल 370 हटाए जाने के विरोध में ब्रिटेन के सांसद ने भारत का विरोध किया था।
आपको बता दें कि सूत्रों के मुताबिक पता चला है। पाकिस्तान अपने कब्जे वाले कश्मीर POK) की यात्रा के लिए ब्रिटेन (Britain) के एक संसदीय समूह को 30 लाख पाकिस्तानी रुपये (17,917 डालर) दिए हैं. यह समूह मुख्य रूप से 'कश्मीर में मानवाधिकारों के उल्लंघन' को उजागर करता है.

ऑल पार्टी पार्लियामेंट्री ग्रुप के रजिस्टर से पता चला है कि 'ऑल पार्टी पार्लियामेंट्री ग्रुप ऑन कश्मीर (APPGK) को 18 फरवरी को पाकिस्तान सरकार से 29.7 लाख से 31.2 लाख पाकिस्तानी रुपये के बीच

मिला. यह धन समूह को 18 से 22 फरवरी के बीच पीओके का दौरा करने के लिए दिया गया। इस समूह की अध्यक्ष लेबर सांसद डेबी अब्राहम ( Debbie Abrahams) हैं।

डेबी अब्राहम को 17 फरवरी को दिल्ली हवाई अड्डे पर सूचित किया गया था कि उनका ई-वीजा वैध नहीं है और उन्हें दुबई भेज दिया गया था। अगले दिन वह पाकिस्तान पहुंचीं और प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) से मिलीं

इस यात्रा का वित्त पोषण पाकिस्तान द्वारा किया गया था।

डेबी अब्राहम भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 के तहत दी गई जम्मू एवं कश्मीर (Jammu and Kashmir) की विशेष स्थिति को खत्म करने के भारत सरकार के फैसले की तीखी आलोचक रहीं हैं. उन्होंने पांच अगस्त, 2019 को लंदन में तत्कालीन भारतीय उच्चायुक्त रुचि घनश्याम को पत्र लिखकर कश्मीर के विशेष दर्जे को हटाने पर गंभीर चिंता व्यक्त की थी।

उसी दिन उन्होंने ब्रिटेन के विदेश सचिव डॉमिनिक राब को लिखा कि कश्मीर में भारतीय कार्रवाइयों ने अंतर्राष्ट्रीय कानून का उल्लंघन किया है और ब्रिटेन से नई दिल्ली के कदमों पर अस्थायी रोक लगाने का अनुरोध किया था।

Advertisement