चीन ने दिया मिसाइल हमले की धमकी,अमेरिका से तैयार हुआ बी-52 घातक हथियार:

आपको बता दें कि भारत और चीन के बीच हुए हिंसक झड़प के बाद चीन से काफी देशों की दुश्मनी पनपती हुई नजर आ रही है।दक्षिणी चीन महासागर में चीन और अमेरिका अपने सैनिकों द्वारा युद्ध अभ्यास कर रहे हैं जिससे कुछ मंजर देखने को मिल रहा है कि दोनों देशों में युद्ध की स्थिति बन सकती है।आपको बता दें कि चीन दक्षिण चीन सागर को अपना इलाका बताता है परंतु संयुक्त राष्ट्र अमेरिका इस क्षेत्र को स्वतंत्र क्षेत्र घोषित कर चुका है। चीन की कम्‍युनिस्‍ट पार्टी ने यहां पर अमेरिकी जंगी बेड़ों को लेकर मिसाइल धमले तक की धमकी दी है, जिसके बाद अमेरिका ने भी इस क्षेत्र में अपने बमवर्षक विमान रवाना कर दिए हैं।
दक्षिण चीन सागर में अपने दो सैन्य विमान वाहक तैनात करने के बाद अमेरिका ने चीन को एक मजबूत संदेश देते हुए सैन्य अभ्यास में शामिल होने के लिए अपने बी-52 बॉम्बर को भेजा है। रविवार को दक्षिण चीन सागर में दो विमानवाहक पोत यूएसएस निमित्ज़ और यूएसएस रोनाल्ड रीगन के साथ सैन्य अभ्यास में शामिल होने के लिए लुइसियाना से यूएस 'बी-52 बमवर्षक रवाना हुए।
बी-52 बमवर्षक अमेरिका की लंबी दूरी का बमवर्षक है।

समाचार एजेंसी एएनआई ने बताया था कि अमेरिकी नौसेना के यूएसएस रोनाल्ड रीगन और यूएसएस निमित्ज़ दक्षिण चीन सागर में 'स्वतंत्र और खुले भारत-प्रशांत महासागर' में अभ्यास कर रहे हैं। चार युद्धपोतों के साथ दो लड़ाकू विमानों में वाहक यहां पर युद्ध अभ्‍यास करेंगे।

'हम बीजिंग के गैरकानूनी दावों का विरोध करते हैं'
अमेरिका का यह कदम कई लोगों के लिए एक आश्चर्य के रूप में आया, क्योंकि यह एक ही क्षेत्र में अमेरिकी और चीनी सैन्य अभ्यास दुर्लभ है।' राज्य के सचिव माइक पोम्पिओ ने ट्वीट किया, 'दक्षिण चीन सागर के विवादित पानी में पीआरसी (पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना) का सैन्य अभ्यास अत्यधिक उत्तेजक है। हम बीजिंग के गैर-कानूनी दावों का विरोध करते हैं।'

Advertisement