मध्य प्रदेश के कांस्टेबल अजय राठौर ने मारा विकास दुबे को थप्पड़, कारण पूछने पर बताया यह राज, पढ़ें विस्तार से:

उत्तर प्रदेश के कानपुर में पुलिस और बदमाशों के बीच हुए मुठभेड़ के दौरान 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए तथा सात पुलिसकर्मी को घर बताया जा रहा था।इस घटना का मुख्य आरोपी विकास दुबे घटना के 7 दिनों के पश्चात मध्य प्रदेश के उज्जैन में ऐसी महाकाल मंदिर से पकड़ा गया। जिसके दौरान वहां पर तैनात कांस्टेबल अजय राठौर ने उसके की गई बदसलूकी को जवाब जवाब देने के लिए उसे जोरदार थप्पड़ लगा दिया।
कारण पूछने पर कांस्टेबल अजय राठौर ने बताया कि उसे यह बताने के लिए थप्पड़ मारा था, "पुलिस कमजोर नहीं होती है."
उन्होंने बताया कि उस वक्त उनकी ड्यूटी निर्गम गेट पर थी।उन्होंने बताया कि हमने उसको रोका तो, वो मास्क उतार नहीं रहा था, लेकिन हमने टीवी पर देखा था तो पहचान लिया था।
कांस्टेबल अजय ने बताया कि पहले तो वो अपना नाम नवीन पाल ही बताता रहा, लेकिन बाद में मान गया कि वो ही विकास दुबे है. उन्होंने कहा कि मुझे उसे केवल यह बताना था कि पुलिस कमजोर नहीं होती है। अगर कोई कुछ गलत करेगा, तो पुलिस हाथ पर हाथ पर धरे नहीं बैठेगी।
आखिर में अजय राठौर ने कहा कि जो शहीद हुए हैं उनकी आत्मा को शांति मिले। मेरी संतुष्टि के लिए मैंने उसे मारा। यह महाकाल का मंदिर है। यहां शांति हमेशा बनी रहती है, लेकिन अगर कोई किसी को मारता है, तो फिर हम बाहर आकर उसको सबक सिखाते हैं।

Advertisement