भारत के रास्ते पर अमेरिका : अमेरिका भी कर रहा है चीनी एप्प्स को बैन करने की तयारी

भारत सरकार के चीनी ऍप्स प्रतिबंधित करने के बाद अब अमेरिका भी चीनी ऍप्लिकेशन्स को बैन करने की सोच रहा है हाल ही में व्हाइट हाउस ने भारत के इस फैसले को प्रशंसनीय बताया था। बताते चलें की 29 जुलाई  2020 भारत  वो ऐतिहासिक दिन था जब भारत ने किसी देश पर आर्थिक हमला किया था और चीन की टिकटॉक , UC  ब्राउज़र समेत 59 ऍप्स को भारत में प्रतिबंधित किया था जिसके कारण  चीन की जनता और उद्योगपति चीनी सरकार से नाखुश थे क्यों की चीन की कायराना हरकतों से ही उन्हें भारत जैसे बड़े बाजार से भारतीय सरकार द्वारा लात मार कर भगाया गया था. भले ही चीन को भारतीय सेना की आक्रामकता और बढ़ते आर्थिक LAC से कदम पीछे खींचने पड़े थे लेकिन चीन अन्य अंतर्राष्ट्रीय कुटिलता भरी चालों को अभी भी चल रहा है।  हाल ही में चीनी सरकार ने ब्रिटेन के समझौते एक राष्ट्र दो व्यवस्था सिद्धांत 1997  की परवाह न करते हुए नए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून को लागू कर दिया था. जिस पर अमेरिका ब्रिटेन जैसे देशों ने चीन सरकार की कड़ी निंदा की थी. अमेरिकी राजनयिक माइक पोम्पियो  ने अपने बयान में चीनी ऍप्स  के प्रतिबंधित करने पर हो रहे विचार को सुनिश्चित करते हुए कहा "अमेरिका निश्चित तौर पर चीन के एप्प्स को प्रतिबंधित करने पर विचार कर रहा है और इसमें टिकटॉक भी शामिल है" पोम्पियो के इस बयान से निश्चित तौर से चीन की मुश्किलें बढ़ गई हैं। 

Advertisement