चाइना को लगेगा और एक बड़ा झटका,पेगाट्रोन कम्पनी की भारत आने की है खबर, पढ़े पूरी खबर:

भारत और चीन के आपसी हिंसक विवाद के पश्चात भारत लगता चीन को झटके पर झटका दिया जा रहा है आपको बता दें कि दोनों देशों के बीच दर्शन किसी भी प्रकार की झूठी तो नहीं हो रही है परंतु भारत के द्वारा चीन को तरह-तरह के प्लान के द्वारा आर्थिक नुकसान दिया जा रहा है।जिस प्रकार से चीन का दूसरे कई बड़े देशों के साथ तनाव चल रहे हैं उसको देखते हुए चीन में उपस्थित बड़ी से बड़ी कंपनियां अपना निवेश हटाने के चक्कर में लगी है।

इसी क्रम में दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल कॉन्ट्रैक्ट मैन्युफैक्चरिंग कंपनी पेगाट्रोन भारत आ रही है। यह मोाबइल के अलावा नोटबुक, डेस्कटॉप, मादरबोर्ड, टेबलेट, गेमिंग कंसोल, एलसीडी टीवी सहित स्मार्ट मोबाइल फोन बनाती है।


एप्पल के लिए काम करती है कंपनी

ताइवान की कंपनी पेगाट्रोन एप्पल के लिए मोबाइल फोन बनाती है। एप्पल की यही एक सहयोगी कंपनी बची थी, जो अभी तक भारत में नहीं आई थी। एप्पल के लिए दुनियाभर में तीन कंपनियां ही मोबाइल फोन का निर्माण करती हैं।

यही तीन कंपनियां एप्पल की बताई जगहों पर अपने प्लांट लगाती हैं। अब पेगाट्रोन ने भी भारत में अपनी उपस्थिति दर्ज करा दी है।

एप्पल भारत से करेगी मोबाइल फोन का निर्यात

एप्पल की योजना चीन से कारोबार में धीरे धीरे कमी लाकर उसे दूसरे देशों में शिफ्ट करने की है। एप्पल को लगता है कि चीन में कारोबारी माहौल अब गड़बड़ होने लगा है। यही कारण है कि वह धीरे धीरे चीन से निकलने की तरफ कदम बढ़ा रही है। इसी क्रम में एप्पल के लिए मोबाइल फोन बनाने वाली कंपनियां अब भारत में अपने पांव जमा रही हैं। इसी क्रम में अब तीसरी कंपनी भी भारत आ गई है। इसके बाद एप्पल के सभी मोबाइल फोन का भारत में निर्माण संभव हो सकेगा। उम्मीद है कि भारत जल्द ही एप्प्ल के लिए सबसे बड़ा निर्यातक देश भारत बन जाएगा।

इसी क्रम में बता दें मोदी सरकार ने कोरोना माहामारी के दौरान ही देश में इलेक्ट्रानिक उत्पादों के निर्माण बढ़ाने के लिए एक कैशबैक योजना की घोषणा की थी। यह योजना करीब 50 हजार करोड़ रुपये की है। इस योजना के तहत देश में पूरी तरह से इलेक्ट्रानिक उत्पाद बनाने वाली कंपनियों को कैशबैक दिया जाएगा। सरकार ने यह प्रक्रिया शुरू कर दी है। इस प्रक्रिया के तहत 5 देश की और 5 विदेशी कंपनियों का चयन किया जाएगा। इससे उम्मीद है कि अगले 2 से 3 साल में देश में इलेक्ट्रानिक उत्पादों के निर्माण के क्षेत्र में स्थिति पूरी तरह से बदल जाएगी।

Advertisement