बार बार समर्पण के लिए कहने के बावजूद भी नहीं माना, आत्त्मरक्षा में चलानी पड़ी गोली - एडीजी लॉ एन्ड आर्डर

उत्तर प्रदेश के एडीजी ने कुख्यात अपराधी विकास के एनकाउंटर के बारे में मीडिया को सम्बोधित करते हुए कहा की विकास गाड़ी पलट जाने के बाद पुलिसकर्मी की पिस्तौल छीन कर भाग रहा था हमने उसे आत्मसमर्पण के लिए कहा लेकिन वो नहीं माना जिसके बाद आत्मरक्षा के लिए उसपर फायरिंग की गई जिसमे वो घायल हो गया और अस्पताल में उसकी मौत हो गई। मुठभेड़ के दौरान 4 पुलिसकर्मी भी घायल हो गए।  21 अभियुक्तों के खिलाफ फिर दर्ज की जा चुकी है जिनमे से तीन गिरफ्तार किये जा  6 मारे जा चुके है।  बताते चले की हाल ही में सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने भाजपा को निशाना बनाते हुए कहा की विकास का भाजपाई नेताओं के साथ सम्बन्ध का खुलासा न हो इसीलिए उसे मार दिया गया।  

Advertisement