नेपाली प्रधानमंत्री आज दे सकते हैं इस्तीफा, पार्टी ने बैठकों को कर दिया रद्द, आइए पढ़ें विस्तार से:

भारत और चीन के आपसी तनाव के बाद जिस प्रकार से नेपाल ने अपना रुख बदल लिया था तथा भारत के विरुद्ध षड्यंत्र रचने लगा था ठीक उसी प्रकार इस वक्त नेपाल का राजनीति दिन-प्रतिदिन बदलता जा रहा है।
आपको बता दें कि नेपाल के प्रधानमंत्री के पी ओली के इस्तीफे की कई दिनों से अटकलें लगाई जा रही है।
इस राजनीति का फेरबदल का मुख्य कारण नेपाल के नए नक्शे में भारत के कुछ निजी जमीनों को दिखाई जाने के पश्चात देखा गया है। पार्टी के नेताओं ने ही केपी ओली के खिलाफ माहौल बनाना शुरू कर दिया।
पहले उनसे प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देने को कहा गया लेकिन विवाद लगातार बढ़ने के बाद उनसे पार्टी अध्यक्ष पद से भी इस्तीफा देने को साफ कह दिया गया है। बताया जा रहा है कि जिस वक्त केपी ओली राष्ट्रपति से मुलाकात कर रहे थे, तब कम्युनिस्ट पार्टी की स्टैंडिंग कमेटी की बैठक उनकी गैर मौजूदगी में जारी थी।
केपी ओली अभी नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के प्रमुख हैं प्रधानमंत्री होने के साथ-साथ पार्टी के प्रमुख फैसले भी वही लेते हैं। भारत के साथ नक्शा विवाद के बाद पूर्व प्रधानमंत्री प्रचंड की अगुवाई में जब से उनका विरोध शुरू हुआ है तभी से केपी ओली संकट में हैं। पुष्प कमल दहल प्रचंड ने उनके इस्तीफे की मांग कर दी. केपी ओली ने उनकी गद्दी पर आए संकट के पीछे भारत का हाथ बताया था, हालांकि वह कुछ सबूत नहीं दे सके। बल्कि प्रचंड ने भी कहा कि भारत पर आरोप लगाने से पहले उन्हें सोचना चाहिए।

Advertisement