जेसीबी से खुदाई के पश्चात विकास दुबे के घर से निकला भारी मात्रा में विस्फोटक सामान, आइए पढ़े विस्तार से:

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के कानपुर में हुए पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ के दौरान 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए। तथा 7 पुलिसकर्मी घायल बताए जा रहे हैं।इस घटना को अंजाम देने वाला शख्स विकास दुबे अभी तक पुलिस की हिरासत से फरार है। उत्तर प्रदेश की पुलिस विकास दुबे के खोजने के लिए पूरी तरह से सतर्क हो गई है तथा जगह-जगह छापेमारी का कार्य भी किया जा रहा है। आपको बता दें कि सरकार के इजाजत के बाद जेसीबी द्वारा विकास दुबे के विशाल घर को खंडहर के रूप में तब्दील कर दिया गया। जिसके पश्चात घर के नीचे से खुदाई के दौरान काफी सारे हथियार तथा विस्फोटक पदार्थ जप्त किए गए हैं।
सूत्रों के मुताबिक पता चला है कि विकास तिवारी के घर के दीवारों में छिपाए गए हथियार भी खुदाई के दौरान प्राप्त किए गए जिसमें 6 तमंचे 25 कारतूस तथा 15 देसी बम प्राप्त किया गया है।
कानपुर ग्रामीण एसपी ब्रजेश कुमार श्रीवास्तव का कहना है कि विकास ने अपने परिवारवालों के नाम पर एक दर्जन लाइसेंसी हथियार ले रखे थे।हथियार अलग-अलग नाम से रजिस्टर थे लेकिन इनका इस्तेमाल विकास ही करता था।
आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद से गैंगस्टर विकास दुबे फरार है। उत्तर प्रदेश की पुलिस विकास दुबे की तलाश में जगह-जगह छापे मार रही है. हालांकि अभी तक उसके बारे में कुछ पता नहीं चला है। 5 जुलाई को दुबे का एक करीबी दयाशंकर अग्निहोत्री पकड़ा गया है। खबरें हैं कि दुबे नेपाल या मध्यप्रदेश भाग गया है। उसे पकड़ने के लिए पुलिस की 20 टीमें बनाई गई हैं।

Advertisement