योगी सरकार के खिलाफ सड़क पर उतरी पीस पार्टी, लगाए गंभीर आरोप

आजमगढ़. भाजपा सरकार पर विपक्ष की आवाज को दबाने का आरोप लगाते हुए पीस पार्टी कार्यकर्ताओं ने जिलाध्यक्ष डा. मो. आसिफ खान के नेतृत्व जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन किया। कार्यकर्ताओं ने जिलाधिकारी को राज्यपाल के नाम पांच सूत्रीय मांग का ज्ञापन सौंपा। जिलाध्यक्ष डा. मो. आसिफ खान ने कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा जब से सत्ता में आयी है, उसी समय से विपक्ष की आवाज दबाकर लोकतंत्र का गला घोंटने का प्रयास जारी है।

विपक्ष के नेताओं पर राजनैतिक द्वेष से फर्जी मुकदमे दर्ज कराकर उन्हें जेल भेजकर राजनीतिक लाभ प्राप्त करने की लालसा में लोकतंत्र की हत्या की जा रही है। लोकतंत्र में सरकार की जनविरोधी नीतियों के विरोध में जनता विपक्ष के माध्यम से आवाज बुलंद कर रही है लेकिन जब से भाजपा सत्ता पर काबिज हुई है उसकी जनविरोधी नीतियों के विरूद्ध आवाज उठाने पर विपक्षी नेताओं को फर्जी मामलों में फंसाकर जेल भेजने का काम किया जा रहा है।

सुफियान अहमद ने कहा कि भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों के विरूद्ध जनहित में आवाज उठाने पर कई राजनीतिज्ञों और सामाजिक कार्यकर्ताओं जैसे पीस पार्टी के मऊ विधानसभा अध्यक्ष मुन्नवर अली, रामपुर के सांसद आजम खां और उनकी पत्नी विधायक रामपुर डा तनजीम फातिमा और पुत्र विधायक स्वार टांडा अब्दुल्लाह आजम खान, गोरखपुर के डा वफील एएमयू के छात्र उसमानी सहित तममा लोगों को फर्जी ढंग से फसाया गया है।

मंजर संजरी ने कहा कि पीस पार्टी मांग करती है कि राजनीतिक द्वेष में विपक्षी नेताओं और सामाजिक कार्यकर्ताओं के विरूद्ध की गयी अंसवैधानिक और अलोकतांत्रिक कार्यवाही को निरस्त कर उनके खिलाफ बेबुनियाद मुकदमों को वापस लेते हुए उन्हें रिहा किया जाए ताकि लोकतंत्र की गरिमा कायम रह सकें। अन्यथा प्रदेश में कानून राज कायम रखने के लिए पीस पार्टी अपनी बुलंद आवाज जारी रखेगा। इस मौके पर सुफियान खान, अख्तर इम्तियाज खां, सोनी, शमसीर, फरीद अहमद, सदरे आलम, कौशर पठान, शरीफ अहमद, साबिर इंकलाबी, मुन्ना, सरफराज, मनोज राव, शहनवाज, रमजान आदि मौजूद रहे।



Advertisement