पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद हत्यारे विकास दुबे का किया समर्थन, फिर पुलिस ने सिखाया ऐसा पाठ आइए जाने विस्तार से:

उत्तर प्रदेश के कानपुर में हुए पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ में 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए तथा इसके साथ-साथ पुलिस कर्मियों को जख्मी बताया जा रहा है। आपको बता दें कि इस घटना को अंजाम देने वाला साक्ष विकास दुबे कानपुर के चौबे पुर गांव का निवासी है जो समाजवादी पार्टी का कार्यकर्ता है।इसके कई गए गुनाह का समर्थन करते हुए कानपुर के कोचिंग इंस्टिट्यूट चलाने वाले शख्स  जिसका नाम है किलकिल सचान है उसने कानपुर के बिकरू गांव में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद फेसबुक पर यह पोस्ट लिखी थी। मामला सामने आने के बाद पुलिस ने सचान को गिरफ्तार कर लिया। उसके खिलाफ आईटी एक्ट और दूसरी धाराओं में मामला दर्ज किया है। सोशल मीडिया पर कई लोगों ने विकास दुबे के समर्थन में पोस्ट लिखी है। सोशल मीडिया में कई लोग विकास दुबे के हमले को भी सही ठहरा रहे हैं। अब ऐसे लोगों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई करने में जुट गई है।
बता दें कि आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद से गैंगस्टर विकास दुबे फरार है। उत्तर प्रदेश की पुलिस विकास दुबे की तलाश में जगह-जगह छापे मार रही है. हालांकि अभी तक उसके बारे में कुछ पता नहीं चला है. 5 जुलाई को दुबे का एक करीबी दयाशंकर अग्निहोत्री पकड़ा गया है। खबरें हैं कि दुबे नेपाल या मध्यप्रदेश भाग गया है। उसे पकड़ने के लिए पुलिस की 20 टीमें बनाई गई हैं।
ऐसा ही एक मामला फजलगंज थाने में भी दर्ज किया गया है. इस मामले में एक महिला आरोपी है। हिंदुस्तान अखबार के अनुसार, फजलगंज थाना प्रभारी अमित तोमर ने बताया कि रीता पांडेय सनातनी नाम से टि्वटर हैंडल चलाने वाली महिला के खिलाफ मामला दर्ज किया है. उसने पुलिसकर्मियों की हत्या करने वाले गैंगस्टर की जय-जयकार की। बाद में उसने इस पोस्ट को फेसबुक पर भी डाला। हालांकि इस मामले में अभी गिरफ्तारी नहीं हुई है। महिला की तलाश की जा रही है।

Advertisement