आत्महत्या करने के बाद सुसाइड नोट पर लिखा, "मैं किसी को मुंह दिखाने के लायक नहीं हूं पापा मुझे माफ कर देना", पढ़े पूरी खबर:

यह घटना मध्यप्रदेश के बैतूल जिले की है जहां पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के अचानक आत्महत्या करने का खुलासा हुआ है।मरने के पश्चात आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ने अपना एक सुसाइड नोट छोड़ दिया था जिसके पश्चात पूरे गांव में खलबली मची हुई है। सुसाइड नोट में उसने एक अनूप नाम के युवक पर प्रताड़ित करने के आरोप लगाते हुए उसे अपनी मौत के लिए जिम्मेदार ठहराया है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ने दवाइयों का ओवर डोज खाया था, जिसके बाद अस्पताल मेंइलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

पुलिस को जो सुसाइड नोट मिला है उसमें आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ने लिखा है कि वो एक बहुत बड़ी मुसीबत में फंस चुकी है,पापा आपको बताने की हिम्मत नहीं है। अपने आप में शर्मिंदगी महसूस हो रही है, न मुंह दिखाने के लायक रही हूं और न ही मुंह छिपाने के मैंने काम ही ऐसा किया है।

सुसाइड नोट में आगे लिखा है कि अभी तक घर और रिश्तेदारी में किसी को तो नहीं लेकिन चाची को सब पता है कि मेरे किसी से नाजायज संबंध थे। ये चाची को पता है। मेरा मोबाइल उसके पास है जिसमें सारी गलत रिकॉर्डिंग हो चुकी है और वो मुझे ब्लैकमेल कर रहा है कि मेरे पैसे दो नहीं तो तुम्हें सारी दुनिया में बेइज्जत कर दूंगा। मैंने उससे 41 हजार रुपए लिए थे जिसमें से चाची ने 15 हजार रुपए लिए और बाकी के के पैसों के मैंने जेवर खरीद लिए जो मैं अब उसे वापस कर चुकी हूं। मेरे पास जीने का कोई रास्ता नहीं बचा है। मेरी मौत का जिम्मेदार अनूप चिचौली रहेगा।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता का ये सुसाइड नोट उसकी मौत के बाद मिला है जिसे लेकर भी सवाल उठ रहे हैं। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ने पेरासिटामॉल की 50 से ज्यादा गोलियां खाकर खुदकुशी करने की कोशिश की थी। गोलियां खाने के बाद हालत बिगड़ने पर उसे परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे थे जहां इलाज के दौरान सोमवार को उसकी मौत हो गई।

Advertisement