गर्भवती पत्नी की कोरोना पॉजिटिव आते हैं पति ने तोड़ा नाता, बोला इस से मेरा कोई संबंध नहीं:

जिस प्रकार कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में अपना आतंक जमा रखा है उससे आम नागरिकों के रिश्तो में काफी दरारे देखने को मिली है। कोरोना वायरस के चलते लोग अपने सगे संबंधियों से मिलने से भी कतरा रहे हैं। कोरोना के चलते लोग ऐसे मजबूर हो गए हैं कि कोरोना मौत के बाद उनके शव का अंतिम संस्कार तक नहीं कर पा रहे हैं। इस बीच उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से एक हैरान करने वाली खबर सामने आई है। एक व्यक्ति ने कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने पर अपनी गर्भवती पत्नी को ही पहचानने से इनकार कर दिया। समय पर सिजेरियन सर्जरी नहीं होने से बच्चे की मां के पेट में मौत हो गई। अब महिला का कहना है कि पति के खिलाफ वह कोर्ट में जाएगी।
डिलीवरी के लिए लोहिया अस्पताल में भर्ती हुई थी हिना

मामला लखनऊ के इंदिरानगर क्षेत्र का है।

24 वर्षीय हिना का निकाह फरवरी 2019 में चांदन गांव निवासी फकरुल के साथ हुआ था। हिना गर्भवती थी और चार जुलाई को डिलीवरी के लिए उसे लोहिया अस्पताल भर्ती कराया गया था। इस दौरान डॉक्टरों ने हिना की कोरोना जांच की तो वह कोरोना पॉजिटिव पाई गई। बताया जा रहा है कि पत्नी के कोरोना पॉजिटिव होने की भनक लगते ही पति फकरुल अस्पताल से भाग निकला। अस्पताल के स्टाफ ने जब उसे फोन किया तो उसने पत्नी हिना को ही पहचानने से इनकार कर दिया।

बच्चे ने मां के गर्भ में तोड़ा दम

मामले की जानकारी जब हिना के पिता को हुई तो उन्होंने अपने दामाद को कॉल किया। फकरुल की बात सुनकर उनके होश उड़ गए। फकरुल ने हिना से किसी भी तरह के संबंध होने से इनकार कर दिया। जानकारी मिलते ही हिना की बहन देखरेख के लिए अस्पताल पहुंची। इसके बाद हिना को लोकबंधु अस्पताल भेज दिया गया। सर्जरी में देरी होने की वजह से बच्चे ने मां के गर्भ में ही दम तोड़ दिया।

हिना ने इसके बावजूद हिम्मत नहीं हारी। उसने आठ दिन अस्पताल में रहकर कोरोना को मात दी। अब हिना अपने मायके चली आई है और वहीं रह रही है। हिना का कहना है कि वह पति के खिलाफ कोर्ट का दरवाजा खटखटाएगी और इंसाफ मांगेगी।

Advertisement