लश्कर ऐ तय्यबा के आतंकियों ने की भाजयुमो जिलाध्यक्ष उमर बारी और उनके परिजनों की हत्या, दस पुलिसकर्मियों की भूमिका संदिग्ध

बांदीपोरा के भाजयुमो के जिला अध्यक्ष उमर बारी व भाजपा के पूर्व जिला अध्यक्ष शेख वसीम बारी और वसीम के पिता वसीम अहमद और छोटे भाई को लश्कर ऐ तय्यबा के आतंकियों ने घर के बहार गोली मरकर हत्या कर दी।  वारदात को अंजाम देने के बाद घटनास्थल से आतंकी फरार हो गए।  मौके पर पहुंची पुलिस ने घटनास्थल के इलाके को सील कर दिया और घेरा बंदी कर के आतंकियों की तलाश जारी किया है। घटना मुस्लिमबद की है जहाँ बुधवार की शाम को भाजपा के युवा नेता उमर अपने भाई वसीम के साथ घर के बाहर स्थित दुकान में बैठे हुए थे। बगल की दूसरी दुकान में उनके पिता बशीर अहमद भी बैठे थे।  तभी दो अज्ञात आतंकी आये और  दोनों भाइयों को निशाना बनाते हुए अंधाधुंध गोलीबारी कर दिए। फिर दोनों आतंकियों ने दूसरी दुकान में बैठे उनके पिता पर भी ताबड़तोड़ गोलिया बरसा दीं. पड़ोसियों ने जहा की गोलीबारी की आवाज किसी ने नहीं सुनी थी अदांजा लगाया जा रहा है की दोनों आतंकियों के हथियारों में सप्प्रेसर लगा होगा इसीलिए किसी ने गोली चलने की आवाज नहीं सुनी। वसीम और उनके भाई व् पिता को तुरंत इलाज के लिए जिला अस्पातल ले जाया गया लेकिन वहां के डॉक्टर ने गंभीर रूप से घायल पीड़ितों को श्री नगर रेफर कर दिया और श्रीनगर ले जाते समय ही तीनों की मौत हो गई. मौके पर पहुंची स्थानीय पुलिस बलों ने घटनास्थल वाले इलाके को सील करके घेरा बंदी करते हुए आतंकिओं की तलाश शुरू कर दी है. सम्बंधित अधिकारीयों ने जाँच में दस पुलिसकर्मियों की भूमिका  संदिग्ध पाई है। आई जी  विजय  कुमार ने कहा भाजपा नेता की सुरक्षा के लिए 10 पुलिसकर्मी तैनात किये गए थे लेकिन जब वारदात हुई   एक भी घटनास्थल पर मौजूद नहीं था, इन सभी की गिरफ़्तारी कर पूछताछ की जाएगी इस वारदात के पीछे  लश्कर ऐ तय्यबा का हाथ है।  

Advertisement