पाकिस्तान: हिन्दू अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा में नाकाम इमरान सरकार, कट्टर धार्मिक समूहों की जिद से रुका कृष्ण मंदिर निर्माण

                 पाकिस्तान की इमरान सरकार हिंदू अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा में नाकाम साबित हो रही है। वैसे भी पाकिस्तान सरकार कभी सेना के तो कभी कट्टरपंथी धार्मिक संगठनों की  दबाव में रहती है। हाल ही में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने राजधानी इस्लामबाद में हिन्दू अल्पसंख्यकों के लिए एक कृष्ण मंदिर निर्माण बनवाने का निर्णय लिया था और मंदिर निर्माण में होने वाला खर्च जो की लगभग 10 करोड़ रुपए था, पाकिस्तान सरकार द्वारा ही दिया जाना था। लेकिन ये बात मजहबी शिक्षा देने वाले कट्टर धार्मिक संस्थान जामिया अशर्फियां के मुफ्ती जियाउद्दीन की बुरी लगी और उन्होंने मंदिर निर्माण का विरोध करते हुए फतवा जारी कर दिया था। पाकिस्तान सरकार ने भी इस फतवे और मुस्लिम कट्टरपंथी धार्मिक समूहों के आगे दबते हुए मंदिर निर्माण परियोजनाओं पर रोक लगा दिया है और सामाजिक व पाकिस्तान के अल्पसंख्यकों के विरोध से बचने के लिए सरकार निर्माण परियोजना के मंजूरी में खामियां बता रही हैं।

Advertisement