रूस ने बनाई ऐसी मिसाइल जो अंतरिक्ष में करेगा दुश्मनों के उपग्रह को नष्ट, पढ़ें विस्तार से:

वैसे तो रोज हमेशा कुछ न कुछ ऐसा हथियार बनाकर दुनिया को चौक आता है जो किसी देश ने भी आशा नहीं किया हो।आपको बता दें कि रूस ने सबसे शक्तिशाली मिसाइल बनाया है जो दुश्मनों के उपग्रहों को अंतरिक्ष में नष्ट कर सकता है।
रूस की यह ब्रह्मास्त्र मिसाइल S-500 है। इस मिसाइल को लेकर अमेरिका और नाटो के अन्‍य देशों के साथ तनाव बढ़ सकता है। इसी के साथ रूस जल्‍द ही इस नए 'ब्रह्मास्‍त्र' को तैनात कर सकता है। रूस का यह हथियार इतना घातक है कि अंत‍रिक्ष से आ रही हाइपरसोनिक मिसाइलों का भी खात्‍मा कर सकता है। रूस के इस ब्रह्मास्‍त्र का नाम है S-500। यह अत्‍याधुनिक मिसाइल डिफेंस सिस्‍टम अपने पूर्ववर्ती S-400 की जगह लेगा।

S-500 प्रोमीथियस सतह से हवा में मार करने में सक्षम मिसाइल डिफेंस सिस्‍टम है।
एस-500 अपने पूर्ववर्ती एस-400 से कई मायनों में भिन्‍न है। एस-500 की रेंज एस-400 से 400 किमी ज्‍यादा है। एस-500 का रेडार भी एस-400 के मुकाबले बहुत ज्‍यादा शक्तिशाली है। एस-500 हाइपरसोनिक मिसाइलों को भी ट्रैक करके उन्‍हें नष्‍ट करने में सक्षम है। यही नहीं अगर कोई देश अंतरिक्ष से हाइपरसोनिक एयरक्राफ्ट या ड्रोन छोड़ता है तो उसे भी एस-500 तबाह कर सकता है। यही वजह है कि रूस अपने इस हथियार के बारे में सूचनाएं बेहद गोपनीय रख रहा है। एस-500 मिसाइल डिफेंस सिस्‍टम में खासतौर पर बनाई गई 77N6 और 77N6-N1 मिसाइलें लगी हैं।

रूसी मीडिया के अनुसार यह डिफेंस सिस्‍टम अमेरिका के अत्‍याधुनिक एफ-35 को भी मार गिराने में सक्षम है। मुख्‍य इंज‍िनियर पावेल सोजिनोव कहते हैं कि एस-500 अमेरिकी प्रतिष्‍ठा को बड़ा झटका है। सूत्रों के मुताबिक रूस ने इस म‍िसाइल डिफेंस सिस्‍टम का काम पूरा कर लिया है लेकिन चूंकि उसने S-400 डिफेंस सिस्‍टम को भारत समेत कई देशों को निर्यात कर रहा है, इसलिए वह एस-500 के ऐलान से बच रहा है। रूस को डर सता रहा है कि उसके खरीदार भारत और तुर्की एस-500 की ओर जा सकते हैं या यह महसूस कर सकते हैं कि उनका डिफेंस सिस्‍टम पुराना हो गया है।

Advertisement