नेपाल में पीएम ओली ने अपनी सत्ता बचाने के लिए उठाया ये बड़ा कदम

नेपाल की सत्ता हाथ से जाने के डर से पीएम ओली ने चाले चलना शुरू कर दिया है. जिसकी वजह से अब एक बार फिर से नेपाल में सियासी हलचल चालू हो गयी है. दरअसल ओली के वि’रुद्ध बढ़ती इस्तीफे की मांग को देखते हुए संसद में चल रहे बजट सत्र को रद्द कर दिया. जिस पर राष्ट्रपति ने कहा कि ऐसा कबिनेट के फैसले पर किया गया है.

दरअसल अनुमान लगाया जा रहा है कि ओली के पास बहुमत नहीं कम है. जिसकी वजह से अपने खिलाफ बढ़ते इस्तीफे की मांग से बचने के लिए ऐसा किया गया है. साथ ही इसी लिए सरकार अल्पमत में न आये इसके लिए ओली विपक्षी पार्टी के नेताओं के साथ संपर्क बनाने की कोशिश कर रहे है. साथ ही सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक ओली नेपाली कांग्रेस में शेर बहादुर देउबा और माधव कुमार नेपाल गुट से संपर्क में हैं. अगर ओली के पास कोई विकल्प नहीं बचता है तो वह पार्टी विभाजन पर कदम आगे बढ़ा सकते हैं.

इसके अलावा ओली के पास पॉलिटिकल पार्टीज ऐक्ट (2073)  में संशोधन करने के लिए अध्यादेश लाने का ये बेहतरीन मौका होगा. बता दें प्रचंड और पार्टी के कई सदस्यों ने पीएम ओली के इस्तीफे की मांग की है. जिस पर अब पार्टी के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक ओली ने अपनी दांव खेल दिया है और अब प्रचंड और उनके सहयोगियों की बारी है. वही स्टैंडिंग कमेटी के सदस्य मणि थापा ने कहा है कि अगर प्रचंड और माधव अगर ओली पर इस्तीफे की मांग करते है तो ओली पार्टी के विभाजन से भी पीछे नहीं हटेंगे.

जाहिर है ओली के पास बहुमत कम है लेकिन उन्होंने सत्ता में बने रहने के लिए अपनी तरफ से हर मुमकिन दांव चल दिया है. जिसके बाद अब सियासी गर्मी तेज़ हो गयी है.



Advertisement