प्रधानमंत्री मोदी का लदाख में चीन के खिलाफ भाषण, बोली ऐसी खतरनाक बात जिसे सुन चीन बौखलाया:

पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी पर हुए भारत और चीन के बीच झड़प के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अचानक घाटी पर सैनिकों से मिलने पहुंच गए। अचानक पहुंचने कि इनकी आदत में फिर से पड़ोसी देशों को चिंता में डाल दिया। लद्दाख में उपस्थित भारतीय सैनिकों को संबोधित करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज पूरी दुनिया विस्तार वाद को भूलकर विकासवाद में जुटी हुई है। लेकिन बिना नाम रखे नरेंद्र मोदी ने कहा कि कुछ ऐसे देश हैं जो अभी भी विस्तार आवाज को अपनाना चाहते हैं जो नामुमकिन है।
सेना के जवानों की असाधारण वीरता की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि सेना ने दुनिया को भारत की ताकत का संदेश दिया है और साथ ही देशवासियों को भी देश की रक्षा का विश्वास दिलाया है। मोदी के साथ चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत भी थे। प्रधानमंत्री का लद्दाख दौरा अचानक हुआ। इस झड़प के बाद किसी भी शीर्ष नेता का यह पहला लद्दाख दौरा है। निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार रक्षा मंत्री राजनाथ ङ्क्षसह को आज लद्दाख का दौरा करना था। गलवान की झड़प में एक कर्नल सहित भारत के 20 सैनिक शहीद हो गए थे, जबकि चीन के भी बड़ी संख्या में सैनिक हताहत हुए थे।
उन्होंने सैनिकों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि भारत ना कभी किसी देश से जुड़ा है और ना ही डरेगा भारत के पास वह शक्ति है जो किसी भी देश की सेना को हराने के लिए काफी है।

Advertisement