कानपुर एनकाउंटर: विकास दुबे को था विश्वास कि कुछ दिन के अंदर ही मिल जाएगी उसको बेल, बार-बार चिल्ला रहा था मुझे तो बेल मिल ही जाएगी:

आपको बता दें कि कानपुर में हुए पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ का मुख्य आरोपी विकास दुबे जो मध्य प्रदेश के उज्जैन में स्थित महाकाल मंदिर से पुलिस की हिरासत में पकड़ा गया वह उज्जैन से लेकरकानपुर के बीच रास्ते भर कुछ दिनों के अंदर बेल मिल ही जाएगी।
आपको बता दें कि उज्जैन में जब दहशतगर्द विकास को यूपी पुलिस और एसटीएफ को सौंपा गया था तो उसने भागने का प्रयास किया था। हालांकि वह तुरंत दबोच लिया गया था। उसके बाद पुलिसकर्मियों ने उसको एक दो थप्पड़ भी जड़े थे।
यूपी पुलिस के हैंडओवर होने के बाद विकास थोड़ा दहशत में था। उसको लग रहा था कि शायद अब उसका एनकाउंटर हो सकता है। जब भागने का प्रयास किया था तो असलहा लूटने की कोशिश भी की थी लेकिन नाकाम रहा था।
एनकाउंटर में अहम रोल अदा करने वाली यूपी एसटीएफ की ओर से बताया गया है कि सामने मवेशियों का झुंड आने से कार पलट गई। कार में बैठे पुलिसकर्मी कुछ देर के लिए अचेतावस्था में आ गए लेकिन विकास दुबे को कुछ नहीं हुआ और वह इंस्पेक्टर रमाकांत पचौरी की पिस्टल छीनकर फरार होने लगा। इसके बाद ही उस पर गोली चलाई गई।

Advertisement