कानपुर एनकाउंटर: पुलिस ने पाए कॉल रिकॉर्डिंग से किया खुलासा, पढ़ें विस्तार से:

या घटना उत्तर प्रदेश के कानपुर की है जहां पर दबिश देने पहुंची पुलिस पर बदमाशों ने अचानक फायरिंग करना शुरू कर दिया जिसमें 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए तथा 7 पुलिसकर्मी घायल बताए जा रहे थे। आपको बता दें कि पुलिस के हाथो एक कॉल रिकॉर्डिंग लगी है जिससे वह कानपुर के चौबेपुर में घटी पूरी घटना को पूरी तरह से जाहिर कर दे रही है।
आपको बता दे की पुलिस के दबिश देने के पहले ही बदमाश विकास दुबे को यह सारी सूचना का पता लग गया था।

सबसे पहले हलका इंचार्ज रहे दरोगा केके शर्मा ने विकास को फोन कर दबिश की सूचना दी। इसके बाद विकास ने एक सिपाही से बात की और कहा कि आने दो सभी को मार दूंगा। यह बात सिपाही ने थानेदार रहे विनय तिवारी को बताई लेकिन उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की।

इसके बाद खुद फोन पर विकास से कहा कि आज आरपार कर दो, सीओ आ रहे हैं, वरना तुम्हारा एनकाउंटर हो जाएगा।

इसके बाद ही विकास दुबे ने यह खूनी खेल खेला। कॉल रिकार्डिंग के आधार पर एक पुलिस अफसर ने बताया कि दो जुलाई की रात दरोगा केके शर्मा ने विकास को फोन किया।

उसे बताया कि तुम्हारे खिलाफ सीओ बिल्हौर देवेंद्र कुमार मिश्र के आदेश पर हत्या के प्रयास का केस दर्ज किया गया है। सीओ साहब खुद तीन-चार थानों की फोर्स लेकर दबिश डालने वाले हैं। इस बीच विकास की दरोगा से कई बार बातचीत हुई।

दरोगा ने विनय तिवारी से विकास की बात कराई। तब विनय ने कहा कि आरपार कर दो, वरना मारे जाओगे। इसके बाद विकास ने पूरी साजिश रची। रास्ते में जेसीबी लगवाई और गुर्गों को बुलाकर असलहे एकत्र किए और दबिश पड़ते ही पुलिस पर चारों तरफ से हमला बोल दिया।

Advertisement