चीन को सबक सिखाने की उम्मीद से भारतीय उद्योगपतियों का हुआ मेल, उद्योगपतियों में मुख्य जिंदल ग्रुप ने किया बड़ा ऐलान: मुख्य खबर विस्तार से

भारत और चीन के बीच हुए हिंसक झड़प के बाद दोनों देशों के बीच तनाव लगातार बढ़ रहे हैं तथा स्थिति युद्ध के कगार पर पहुंच चुकी है। आपको बता दें कि भारत में चीनी सामानों के बहिष्कार के साथ-साथ केंद्र सरकार ने चीनी 59 मोबाइल ऐप को भी बैन कर दिया जिसके बाद चीन को काफी आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ा है। केंद्र सरकार ने भारत में चीन के आयात सामानों में से आवश्यक सामानों पर रोक लगा दिया है जिससे चीन से आयात में कमी किया जा सके।
इसके साथ ही आपको बता दें कि चीन को और अधिक नुकसान पहुंचाने की इरादे से भारत के उद्योगपतियों ने बड़ा फैसला लिया है, जेएसडब्ल्यू समूह के मालिक सज्जन जिंदल ने सोमवार को चीन से आयात बंद करने के लिए उद्योगपतियों के बीच एकजुटता का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि ऐसे समय जब वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीनी हमारे सैनिकों को मार रहे हैं दोनों देशों के बीच व्यापार पहले की तरह जारी नहीं रह सकता है।
सज्जन जिंदल ने एक वक्तव्य में कहा, ''हमारे सैनिक एलएसी पर उनके द्वारा मारे जाते रहें और हम अपने उद्योगों के लिए चीन से सस्ता कच्चा माल खरीदकर कमाई करते रहें यह नहीं हो सकता है।'' उन्होंने कहा कि उनके कई दोस्त और सहयोगी उद्योगपति इस बात को लेकर परेशान है कि बड़ा मार्जिन कमाने और कारोबार में निरंतरता बनाए रखने के लिए चीन के साथ उनका व्यापार महत्वपूर्ण है लेकिन यह स्थिति तब आई है जब हमने अपने घरेलू आपूर्तिकर्ताओं को विकसित करने के बजाय आंख मूंदकर चीन के सस्ते आयात को स्वीकार करते रहे।
देश के इस प्रमुख उद्योगपति ने कहा कि यह हम सभी के लिये एक मौका है कि हम एकसाथ आयें और मजबूत आत्म निर्भर भारत के लिये काम करेंगे। ''गुणवत्ता और आकार हासिल करने के लिए आओ हम घरेलू उत्पादकों का समिार्न करें। हमें अपने खुद के उत्पादों के प्रति विश्वास दिखाना होगा। हमें अपनी सशस्त्र सेनाओं और सरकार को समर्थन देना होगा और यह साबित करना होगा कि चीन के खिलाफ लड़ाई में हम उनके साथ खड़े हैं।''

Advertisement