उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री का फैसला,टिड्डियों के नुकसान का भरपाई करेगी यूपी सरकार किसानों को देगी राहत मुआवजा;

जिस प्रकार से देश में कोरोना के मामले दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं उसी प्रकार से टिद्दियो ने भी अपना आतंक मचा हुआ है।आपको बता दें कि देश के कुछ राज्यों में पीढ़ियों के प्रकोप के चलते किसानों को बहुत नुकसान हुआ है खासकर मध्यप्रदेश में सीडीओ ने जिस प्रकार से खेतों पर अपना आक्रमण किया था उसके बाद किसान पूरी तरह से बौखला उठे थे। चिड़ियों का झुंड बिहार से चलकर उत्तर प्रदेश में शामिल हो गया है।बता दें कि अभी तक उत्तर प्रदेश के 31 जिलों में पीढ़ियों ने अपना शासन जमाए हुए हैं।टीडीओ के चलते किसान के फसल अनाज सब्जी इन सब को नुकसान का मुआवजा देने के लिए यूपी सरकार ने अहम फैसला लिया है।
टिड्डियों की वजह से फसलों को अब और भी नुकसान होने का खतरा बढ़ गया है। अभी तक तो इन्हें चट करने के लिए ढैचा और मक्का जैसी फसलें ही मिलती थीं लेकिन अब तो धान की रोपाई शुरू हो गई है. ज्वार, बाजरा को भी बम्पर नुकसान संभव है। कृषि विभाग को कुछ नहीं पता है कि अभी कितने समय तक इनका प्रकोप चलता रहेगा। विभाग के अनुमान के मुताबिक ये समस्या अगले 3 से 4 महीने तक बनी रह सकती है. ऐसे में किस जिले की फसल बचेगी? ये कहना मुश्किल है।
प्रदेश की सीमा में प्रवेश करने वाला टिड्डियों का बड़ा दल छोटे-छोटे टुकड़ों में बंटकर एक साथ कई जिलों में पहुंच जाता है। यह सबसे बड़ी समस्या है. हालांकि इनको मारने के उपाय भी काफी कारगर हो रहे है। जिन जिलों में टिड्डियां रात में रूकती हैं वहां दवा के छिड़काव से इनकी 60 से 70 फ़ीसदी आबादी नष्ट हो जाती है लेकिन आमद इतनी है कि प्रकोप खत्म होने का नाम नही ले रहा है. राज्य सरकार ने कृषि विभाग को 5 करोड़ का बजट दिया है जिससे इनपर लगाम लगाई जा सके।

Advertisement