सड़क पर भूखे गुजारा करने वाले मां और बेटे की मदद करेंगे सोनू सूद, रोते बिलखते बच्चे को देखकर हो गया भावुक:

देश में कोरोना महामारी के बढ़ते आतंक को देखते हुए कुछ अच्छे लोगों की भी तथा उनके भावनाओं को इस महामारी में गरीबों का साथ देते हुए देखा गया है जिसमें फिल्म जगत के सुपरस्टार एक्टर सोनू सूद का नाम एक नंबर पर है। उन्होंने जिस प्रकार गरीब तथा और शरणार्थी शुद्ध दूसरे राज्यों से आए हुए लोगों की मदद की उस से यह प्रतीत होता है कि वह देश के सच में सबसे अच्छे हीरो हैं।
लॉकडाउन में जब प्रवासी मजदूर पैदल ही अपने घरों की तरफ निकल पड़े तो उनकी परेशानी सोनू सूद से देखी नहीं गई और उन्होंने हजारों लोगों को अपने इंतजाम पर उनके घर पहुंचाया।
सोनू सूद का यह रूप देख लोगों के लिए वो सच में हीरे बन गए हैं। वहीं हाल ही में सोशल मीडिया पर एक बेघर परविरा की फोटो वायरल हुई थी। सोनू सूद का इस फोटो को देख दिल पसीज गया। सोनू सूद ने इस बेघर परिवार की मदद करने का भरोसा जताया है।
दरअसल एक यूजर ने सोनू को पटना की एक तस्वीर भेजते हुए लिखा, 'सर इस महिला के पति की मौत हो गई है। मकान मालिक ने इनको घर से निकाल दिया है । एक महीने से यह महिला अपने बच्चों के सात सड़क के किनारे रह रही है, 2 छोटे बच्चे भूख से बिलख रहे हैं मदद करें आप। सरकार से इन्हें उम्मीद नही कोई।' इसके जवाब में तुरंत सोनू सूद ने लिखा, 'कल इस परिवार के सिर पर छत होगी। इन छोटे बच्चों के लिए एक घर ज़रूर होगा। सोनू के इस ट्वीट की लोग काफी तारीफ कर रहे हैं। लॉकडाउन में सोनू सूद ने जितनी संभव हो सकी, अपनी तरफ से सभी की मदद की है।
हाल ही में सोनू ने महाराष्ट्र पुलिस के जवानों के लिए 25 हजार फेस शील्ड डोनेट किए थे। इस बात की जानकारी महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने सोशल मीडिया पर दी है। अनिल देशमुख ने ट्विटर अकाउंट पर सोनू सूद के साथ अपनी एक तस्वीर साझा की है। उन्होंने लिखा कि मैं हमारे पुलिस कर्मियों को 25,000 फेस शील्ड देने के लिए सोनसूद जी को धन्यवाद देता हूं। बता दें कि सोनू सूद ने कुछ दिनों पहले यह घोषणा की थी कि वह लॉकडाउन के दौरान अपने एक्सपीरियंस पर एक किताब भी लिखेंगे। हालांकि अभी तक इस किताब का नाम फाइनल नहीं हुआ है।

Advertisement