एक लाख रुपए इनामी टिंकू कपाला को यूपी एसटीएफ ने मुठभेड़ में मार गिराया

बाराबंकी. यूपी एसटीएफ टीम ने लखनऊ के टॉप टेन बदमाश टिंकू कपाला उर्फ कमल किशोर को एक मुठभेड़ में मार गिराया। टिंकू कपाला पर सरकार की तरफ से एक लाख रुपए का इनाम घोषित किया गया था। उत्तर प्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में टिंकू कपाला पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। टिंकू कपाला के साथ मोटरसाइकिल से एक बदमाश और था जो भागने में कामयाब रहा। बाराबंकी के पांच थानों की पुलिस एसटीएफ के साथ उसे भी ढूंढ़ने में जुटी हुई है।

बाराबंकी पुलिस अधीक्षक डॉक्टर अरविन्द चतुर्वेदी ने बताया कि एसटीएफ टीम से सूचना मिली थी कि एक लाख का इनामी बदमाश टिंकू कपाला सतरिख थाना इलाके में मुठभेड़ में घायल हो गया है। सूचना पर बाराबंकी पुलिस मौके पर पहुंची, गंभीर रुप से घायल अपराधी को अस्पताल लाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इस अपराधी पर हत्या और लूट के 27 मुकदमे दर्ज हैं, और इसकी आपराधिक गतिविधियां कई राज्यों में थी।

पांच थानों की पुलिस तलाश में जुटी :- बाराबंकी पुलिस अधीक्षक ने बताया कि वर्ष 2019 में लखनऊ के कृष्णा नगर में आरके ज्वैलर्स के यहां हुई बड़ी लूट और हत्या का मुख्य आरोपी टिंकू कपाला ही था। यह मूलतः लखनऊ के चौक इलाके का रहने वाला है और यह एक मोटरसाइकिल से अपने एक साथी के साथ यहां आया था। मौके से इसका साथी फरार हो गया है और उसे पकड़ने के लिए जनपद के पांच थानों की पुलिस को एसटीएफ के साथ लगाया गया है। आशा है जल्द ही उसकी भी गिरफ्तारी सम्भव हो जाएगी।

लम्बे समय से तलाश थी :- स्पेशल टास्क फोर्स के आईजी अमिताभ यश ने बताया कि, टिंकू कपाला चौक के निवाजगंज स्थित दिलाराम बरादारी मोहल्ले का रहने वाला था। उसके खिलाफ डकैती, लूट, हत्या, हत्या के प्रयास व आर्म्स एक्ट समेत अन्य संगीन धाराओं में दो दर्जन से अधिक मुकदमे दर्ज थे। लंबे समय से पुलिस व एसटीएफ की टीमें उसकी तलाश कर रही थीं।

वारदात कर हो जाता था अंडरग्राउंड :- अधिकारियों के अनुसार, टिंकू कपाला उर्फ कमल किशोर उर्फ हेमंत कुमार उर्फ संजय उर्फ मामा बड़ी वारदात करके अंडरग्राउंड हो जाता था। उसने यूपी के अलावा गुजरात और महाराष्ट्र में भी डकैती व लूट की बड़ी वारदातें की। उसके खिलाफ गुजरात के वड़ोदरा और महाराष्ट्र के पुणे में भी कई मामले दर्ज थे।



Advertisement