बैन होने से परेशान टिकटॉक चीन से भागने की कर रहा है तैयारी, अमेरिका में भी टिक टॉक बैन करने की मांग


हाल ही मे भारत सरकार ने टिकटॉक समेत 59  एप्प्स को बैन कर दिया था।  जिससे चीन को बड़ा सा आर्थिक झटका लगा ही था साथ ही  टिकटॉक द्वारा भारत में किये गए निवेश पर भी खतरा मंडराने लगा था हालाँकि चीन सरकार के अंतर्राष्ट्रीय नियमों वाला रोना रोने के बाद भी भारत सरकार ने प्रतिबंध नहीं हटाया था जिससे टिकटॉक की लगभग लगभग कमर टूट ही चुकी थी।  अब टिकटॉक सिर्फ अमेरिका और कुछ अन्य देशों के बलबूते खड़ा था। लेकिन इधर अमेरिका में भी  टिक टॉक बैन करने की मांग की जा रही है।  हालाँकि टिक टॉक हजारों बार चीख चिल्ला चुका है की टिक टॉक के सारे डाटा सेंटर सिंगापुर में हैं लेकिन फिर भी टिकटॉक का नाम चीन से जुड़े होने के कारण सारे देश और देशों की ख़ुफ़िया एजेंसियां टिकटॉक को संदिग्ध मानती हैं।  अमेरिका में टिकटॉक बैन करने की मांग को देख कर टिक टॉक की पैरेंट कंपनी बाइटडांस को डर सताने लगा है की कहीं भारत के बाद अमेरिका भी टिकटॉक को बैन न कर दे।  इसी डर के चलते बाइटडांस अपने व्यापारिक संरचनाओं को बदलने की सोच रही है बाइटडांस प्रबंधन टिकटॉक के लिए अलग से नया प्रबंधन बोर्ड बनाने और इसे चीन से बाहर निकालने पर विचार कर रहा है। 

Advertisement