पीएम मोदी ने किया सबसे हाईटेक Covid-19 Lab का उद्घाटन, जानिए क्या है खासियत

नोएडा। सेक्टर-39 स्थित राष्ट्रीय कैंसर रोकथाम एवं शोध संस्थान (एनआइसीपीआर), मुंबई और कोलकाता में हाईटेक लैब का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए किया। कार्यक्रम में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे भी वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से जुड़े।

यह भी पढ़ें: युवती के अश्लील फोटो वायरल करने वाले युवक को पंचायत ने 10 साल के लिए गांव से निकाल जाने का फरमान सुनाया

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि देश के करोड़ों नागरिक कोरोना वैश्विक महामारी से बहुत बहादुरी से लड़ रहे हैं। जिन टेस्टिंग फेसिलिटी का लॉन्च हुआ है, उससे पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश को कोरोना के खिलाफ लड़ाई में और ताकत मिलने वाली है। अब इन तीनों जगह टेस्ट की जो उपलब्ध कपैसिटी है, उसमें 10 हज़ार टेस्ट की कैपेसिटी और जुड़ने जा रही है। वर्तमान में भारत में 5 लाख से ज्यादा टेस्ट हर रोज हो रहे हैं। आने वाले हफ्तों में इसको 10 लाख प्रतिदिन करने की कोशिश हो रही है।

यह भी पढ़ें: राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल के कॉलेज की बेबसाइट पर कश्मीरी पैंथर का हमला

पीएम ने कहा कि देश में तेजी के साथ कोरोना स्पेसिफिक हैल्थ इनफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण हो, इसी वजह से बहुत शुरुआत में ही केंद्र सरकार ने 15 हजार करोड़ रुपए के पैकेज का ऐलान कर दिया था। आइसोलेशन सेंटर हो, कोविड स्पेशल हॉस्पिटल हो, टेस्टिंग, ट्रेसिंग और ट्रैकिंग से जुड़ा नेटवर्क हो, भारत ने बहुत ही तेज़ गति से अपनी क्षमताओं का विस्तार किया। आज भारत में 11 हजार से ज्यादा कोविड सुविधाए हैं और 11 लाख से ज्यादा इसोलेशन बेड़ हैं।

नोएडा स्थित एनआइसीपीआर की डायरेक्टर शालिनी सिंह ने बताया कि तीनो लैब मिलाकर 10 हज़ार से अधिक कोरोना टेस्ट करेंगी। इन लैब्स में नई टेक्नोलॉजी से कोरोना की जांच की जाएगी और जांच रिपोर्ट 24 घंटे में आ जांएगी। इन लैब्स में सिर्फ देश के अस्पताल ही सैम्पल भेजेंगे और डायरेक्ट सैम्पल कलेक्शन नहीं होगा। नई लैब में मंगलवार से जांच का काम शुरू हो गया है।



Advertisement