Good News: अब UP के इस शहर में बनेंगे मेट्रो कोच, जर्मन तकनीक का होगा इस्तेमाल

ग्रेटर नोएडा। यमुना प्राधिकरण ने मेट्रो कोच बनाने वाली कंपनी समेत 12 कंपनियों को जमीन आवंटित की है। इससे प्राधिकरण में करीब 248 करोड़ रुपये का निवेश होगा। वहीं 12 हजार से अधिक लोगों को रोजगार मिल सकेगा। दरअसल, प्राधिकरण ने यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में पीपीएस इंटरनेशनल कंपनी को 20 एकड़ जमीन आवंटित की है। यह कंपनी शुरुआती दौर में 115 करोड़ का निवेश कर मेड इन इंडिया और मेक इन इंडिया की तर्ज पर मेट्रो कोच बनाएगी।

यह भी पढ़ें: पत्रकार विक्रम जोशी ने कोमा में जाने से पहले आखिरी बार बेटी को दिया था सफलता का ये मंत्र

यमुना प्राधिकरण के सीईओ डॉ अरुणवीर सिंह ने बताया कि 12 कंपनियों को जमीन आवंटित की गई है। इनमें एक कंपनी को 20 एकड़ जमीन आवंटित की गई है। जो यहां मेट्रो कोच बनाने का काम करेगी। इसके अलावा 11 कंपनियों को अप्रैल पार्क में जमीन दी गई है। यह सभी कंपनियां गारमेंट से जुड़ी हैं। अब तक इस वर्ष में प्राधिकरण ने 515 उद्योगों को जमीन आवंटित की है। जिनसे हजारों लोगों को रोजगार के अवसर प्रदान होंगे।

यह भी पढ़ें: राम मंदिर निर्माण के लिए इन्होंने भेजी पांच किलो चांदी की ईंटें, बोले- नींव में हो इस्तेमाल

जर्मन तकीन के आधार पर बनेंगे मेट्रो कोच

प्राधिकरण के अधिकारियों के मुताबिक पीपीएस इंटरनेशनल वर्तमान में भारतीय रेल के लिए ओवरहेड इलेक्ट्रिसिटी केबल, केंटिलिवर, इलेक्ट्रिक प्लग्स आदि का निर्माण करती है। लेकिन अब उसके द्वारा यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में मेट्रो लाइट व मेट्रो न्यू कोच बनाने का काम किया जाएगा। यह कंपनी जर्मन तकनीक के आधार पर स्टेनलेस स्टील के कोच बनाएगी।

ऑनलाइन किया गया आवंटन

गौरतलब है कि कोरोना महामारी के चलते यमुना प्राधिकरण ने उक्त जमीन के लिए ऑनलाइन आवंटन किया। इसके लिए आवेदन करने वाली कंपनियों के प्रतिनिधियों को ऑनलाइन आवंटन किया गया। इतना ही नहीं, आवेदन के समय प्राधिकरण ने कंपनियों के प्रतिनिधियों का साक्षात्कार भी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए ही लिया था।



Advertisement