बकरीद पर विवादित बयान देने पर भाजपा विधायक को दुबई से मिली धमकी, बोले-पहले PAK से भी आ चुका फोन

गाजियाबाद। अपने विवादित बयानों को लेकर चर्चा में रहने वाले लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर द्वारा बकरीद को लेकर दिए गए बयान के बाद राजनीतिक हलचल मची हुई है। विधायक के द्वारा दिए गए बयान पर बसपा के पूर्व विधायक जाकिर अली ने उनकी गिरफ्तारी की मांग की है। वहीं लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर के अनुसार उनके फोन पर दुबई के फोन नंबर से धमकी मिली है। कुछ दिनों पहले भी उन्हें पाकिस्तान से धमकी मिली थी। जिसकी शिकायत उन्होंने स्थानीय पुलिस थाने में दी थी। अब उन्हें एक बार फिर से धमकी मिली है।

यह भी पढ़ें: होटल मालिक ने परिवार समेत इच्छा मृत्यु की मांग की, जानिये क्या है पूरा मामला

आपको बताते चलें कि गाजियाबाद लोनी विधानसभा क्षेत्र के भाजपा विधायक नंदकिशोर गुर्जर हमेशा हमसे किसी ना किसी बात को लेकर सुर्खियों में बने रहते हैं। जिसके चलते नंदकिशोर गुर्जर द्वारा ईद पर कुर्बानी को लेकर एक बयान दिया गया। जिसमें कहा गया कि कोविड-19 संक्रमण को गंभीरता से लेते हुए इस बार पशुओं की कुर्बानी ना दी जाए। क्योंकि इससे संक्रमण का खतरा फैलता है और यदि कुर्बानी देनी ही है तो वह निरीह पशुओं की बलि ना दें। बल्कि अपने बच्चे की कुर्बानी दे। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म में भी इससे पहले बलि की प्रथा थी। लेकिन इसे गलत मानते हुए अब बलि के स्थान पर नारियल तोड़ते हैं।

यह भी पढ़ें: कुत्ता खरीदने को लेकर दो पक्षों में विवाद के दौरान फायरिंग में दो की मौत, एक घायल

इस बयान के बाद से मुस्लिम धर्म के नेताओं में सियासी उबाल आ गया है और अब उनके खिलाफ मोर्चा खोलते हुए बसपा के पूर्व विधायक जाकिर अली और बोला ना के बसपा विधायक असलम चौधरी ने नंदकिशोर गुर्जर के इस बयान पर तीखी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा है। कि भाजपा विधायक अनर्गल बयान ना दें और इस बयान पर उन्होंने कहा कि भाजपा विधायक कि इस मामले में गिरफ्तारी होनी चाहिए। इसके अलावा विधायक नंदकिशोर गुर्जर को एक बार फिर से फोन पर धमकी मिली है। जिस फोन नंबर से धमकी मिली है वह दुबई का बताया जा रहा है। इससे पहले भी नंदकिशोर गुर्जर को पाकिस्तान के फोन नंबर से एक धमकी मिली थी। जिसकी शिकायत उनके द्वारा स्थानीय पुलिस से की गई थी। अभी यह मामला शांत भी नहीं हुआ और अब उन्हें दुबई से भी धमकी मिली है। इसकी शिकायत भी इनके द्वारा पुलिस के आला अधिकारी और जिला प्रशासन से की गई है।



Advertisement