नंबर दो के धंधेबाजों की रणनीति से मजबूर होकर महिला PCS ने की आत्महत्या ,पंखे से लटका मिला शव



बलिया में तैनात महिला अधिशासी अधिकारी मणि मंजरी राय एक एक करके फर्जी विकास कार्यों और सारे फर्जी सरकारी भुगतानों को रुकवा रही थी जिससे क्षेत्र में मौजूद नंबर दो की काली कमाई करने वाले हरामखोरों को फर्जी भुगतान न मिलने से खाने के लाले पड़ रहे थे। मणि मंजरी का हरामखोरों की कमाई रोकने और सरकारी धन को लुटने से बचाने  का एकसूत्रीय कार्यक्रम जारी था की आज उनके कमरे से उनकी पंखे से लटकती हुई लाश मिली, पड़ोसियों की सूचना पर घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने लटकती लाश के पास से एक सुसाइड नोट उठाया जिसमे लिखा था वह दिल्ली मुंबई से बचकर बलिया चली आईं लेकिन  यहाँ भी उन्हें रणनीति के तहत फंसाया गया इससे वो बहुत दुखी हैं लिहाजा उनके पास आत्महत्या करने के आलावा कोई और विकल्प नहीं है. पुलिस को घटनास्थल से मिले सुसाइड नोट में किसी अधिकारी या व्यक्ति विशेष के नाम नहीं मिले लेकिन सुसाइड नोट का इशारा हाल ही में  फर्जी विकास कार्यो के लिए रोके गए और भुगतान किये गए सारे सरकारी और गैर सरकारी नामो की तरफ था जो बीते दिनों में मणि मंजरी द्वारा हस्तक्षेपित या प्रभावित हुआ था। फिलहाल मौके पर पहुंची पुलिस ने  महिला अधिकारी के शव को नीचे उतारकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मणि मंजरी की आत्महत्या की सूचना पाते ही पुलिस अधीक्षक देवेन्द्रनाथ समेत अन्य पुलिस अधिकारी भी घटनास्थल पर पहुंचे जिलाधिकारी श्री हरिप्रताप शाही ने कहा "महिला अफसर के आत्महत्या के पीछे परिस्थितियों की जाँच में पुलिस जुटी हुई है पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद और राइटिंग मिलान के बाद जाँच का दायरा और बढ़ेगा साथ ही जो भी संदिग्ध पाया जायेगा पुलिस उससे पूछताछ करेगी"।  जहा इस घटना को लोग आत्महत्या मान रहे है वही महिला अधिकारी के पिता इसे हत्या बता रहे है उनका कहना है "रविवार को मेरी बेटी से बात हुई बोली ड्राइवर को हटाना है तमाम गलत कार्यों पर मेरी बेटी ने अंकुश लगाया तमाम फर्जी विकास कार्यों पर मेरी बेटी ने अंकुश लगाया फर्जी भुगतान के लिए मेरी बेटी पर दबाव बनाने वाले मेरी बेटी के हत्या के सूत्रधार हैं मेरी बेटी आत्महत्या करने वाली नहीं है मेरी बेटी को मारा गया है मुझे इंसाफ चाहिए" उपरोक्त बयान में महिला अधिकारी के पिता ने साफ़ साफ़ ड्राइवर और फर्जी भुगतान कराने वालों का नाम लिया है उम्मीद है पुलिस भी इन तथ्यों को ध्यान में रखते हुए जाँच करेगी।  

Advertisement