UP के सबसे हाईटेक शहर में 345 करोड़ का होगा निवेश, हजारों लोगों की होगी 'बल्ले-बल्ले'

नोएडा। लॉकडाउन के बाद अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए नोएडा प्राधिकरण ने कमर कस ली है। प्राधिकरण ने औद्योगिक भूखंडों की योजना का ड्रा निकाला। दो भागों में निकाले गए ड्रा के पहले चरण में 4000 से 20 हजार वर्गमीटर तक के भूखंडों को शामिल किया गया था। जबकि दूसरे भाग में 451 से 1000 वर्गमीटर तक के भूखंडों को शामिल किया गया।

यह भी पढ़ें: बच्चे की पढ़ाई के लिए गरीब पिता ने कर्ज पर खरीदा मोबाइल फोन

पहले चरण के ड्रॉ में 19 भूखडों को शामिल किया गया था। उसके लिए 251 लोगों ने आवेदन किया था। उनमें 13 सामान्य श्रेणी और 06 विस्तार के भूखंड थे। योजना के तहत कुल एक लाख 549.13 वर्गमीटर भूमि का आवंटन किया गया। इससे अथॉरिटी को 169.34 करोड़ रुपये का राजस्व मिलगा। इन भूखंडों पर स्थापित किए जाने वाले उद्योगों में 307.71 करोड़ रुपये का निवेश होगा। इनमें 5510 लोगों के लिए रोजगार सृजन होगा।

दूसरे चरण के ड्रा में 451 से 1000 वर्गमीटर तक के 12 भूखंडों को शामिल किया गया। इनके लिए कुल 568 लोगों ने आवेदन किया था। आवेदन की स्क्रीनिंग के बाद ड्रा के लिए 251 लोगों का चयन किया गया। इस आवंटन से अथॉरिटी को 36.91 करोड़ रुपये का राजस्व मिलगा और 726 लोगों के लिए रोजगार का सृजन होगा। एसआरएस क्रिएशन, डीपी गर्ग एक्सपोर्ट्स प्रा.लि., जैन ब्रदर्स लेमिनियर्स प्रा.लि. और प्राइम बिल्डवेल प्रा.लि. को विस्तार योजना के तहत भूखंड का आवंटन किया है।

यह भी पढ़ें: लव जिहाद का केंद्र बना मेरठ: अमित बनकर ‘शमशाद’ ने प्रिया से रचाई शादी, राज खुला तो बेडरूम से निकले दो नर कंकाल

इसके अलावा सामान्य श्रेणी में रविन्दर कुमार, अनमोल तिवारी, ईशा गुप्ता, मोहित अग्रवाल, संदीप बग्गा, अगम मेटल फैब्रिकेशन प्रा.लि., सुरेंद्र कुमार नारंग और बीसी फैशन एलएलपी को भूखंड आवंटित किए गए हैं। इन भूखंडों पर रेडीमेड गारमेंट्स, प्रिंट एंड पैकेजिंग, स्टील फैब्रिकेशन, प्लास्टिक प्रॉडक्ट, फूड प्रोसेसिंग,इलेक्ट्रानिक का सामान बनाने वाली इकाइयां लगाई जाएंगी। अथॉरिटी के शर्तों के मुताबिक इन भूखंडों पर अगले दो वर्ष में निर्माण पूरा कर इकाइयों को चालू करना होगा।



Advertisement