UP के इन जिलों में ग्लोबल वार्मिंग के कारण कमजाेर पड़ा मानसून, जानिये कब शुरू होगी झमाझम बारिश

मेरठ. लॉकडाउन के दौरान मेरठ और वेस्ट में लंदन जैसी आवोहवा बहने का कारण उन दिनों कल-कारखानों का बंद होना माना जा रहा है। जिसके कारण पूरे वेस्ट ही नहीं एनसीआर में भी एक्यूआई और मौसम में जबरदस्त परिवर्तन देखा जा रहा था। लेकिन, जैसे ही देश अनलाॅक हुआ करखानों की चिमनियों से जहरीला धुंआ उगलना शुरू किया तो फिर से आबोहवा को जहरीली गैसों ने खतरनाक बना दिया। इस कारण इस बार मेरठ ही नहीं पूरे वेस्ट में लोग बारिश के लिए तरस रहे हैं। बारिश का आलम ये है कि अभी तक एक भी बारिश वैसी नहीं हुई जैसी कि मेरठ या आसपास के जिलों में होनी चाहिए थी। मौसम वैज्ञानिक इसका कारण ग्लोबल वार्मिंग में हो रहे बदलाव को मान रहे हैं। मौसम वैज्ञानिक डाॅ. एन सुभाष ने बताया कि ग्लोबल वार्मिग के कारण ही इस बार वेस्ट में मानसून कमजोर रहा है।

यह भी पढ़ें- UP Weather Alert: यूपी में तेज बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी, जानिए और क्या है मौसम विभाग की चेतावनी

पिछले कुछ दिनों से भीषण गर्मी और बारिश की बेरुखी से जूझ रहे मेरठ सहित वेस्ट यूपी में अब से एक अगस्त तक मध्यम से भारी बारिश के आसार हैं। बारिश का दौर बुधवार से शुरू होने के आसार हैं। मौसम विभाग के अनुसार बुधवार से मेरठ और दिल्ली-एनसीआर सहित पूरे वेस्ट यूपी में भारी बारिश के आसार हैं। इस दौरान कुछ हिस्सों में मूसलाधार बारिश की भी आशंका है। मध्यम से मूसलाधार बारिश का यह दौर एक अगस्त तक जारी रहने के आसार हैं।

बारिश से भीषण गर्मी का दौर भी खत्म होने की संभावना है। डॉ. एन सुभाष ने बताया कि मानसून की ट्रफ रेखा सामान्य स्थिति में रहेगी। इन सारे सिस्टम से वेस्ट यूपी में भारी बारिश के आसार हैं। वहीं, बुधवार को मेरठ का एक्यूआई 80 दर्ज किया गया ।

यह भी पढ़ें- दिल्ली-वाराणसी कॉरिडोर का गौतमबुद्ध नगर में होगा पहला स्टेशन, दिल्ली से जेवर एयरपोर्ट पहुंचने में लगेंगे मात्र 20 मिनट



Advertisement