कोरोना के इलाज से जुड़े स्वास्थ्यकर्मियों का 50 लाख का बीमा, सिर्फ डॉक्टर ही नहीं आशा कार्यकर्ता और एंबुलेंस चालकों को भी मिलेगा लाभ

बाराबंकी. कोरोना वायरस में मरीजो के उपचार में जुटे स्वास्थ्यकर्मी अगर खुद कोरोना संक्रमित हो गए या उनके साथ कोई दुर्घटना हो जाती है तो उन्हें शासन की तरफ से 50 लाख रुपए की क्षतिपूर्ति दी जाएगी। यह राशि न केवल चिकित्सकों को मिलेगी, बल्कि आशा कार्यकर्ता और एंबुलेंस चालकों समेत अन्य स्वास्थ्यकर्मियों को भी प्राप्त होगी। प्रधानमन्त्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत कोरोना की लड़ाई में जुटे स्वास्थ्यकर्मियों का मनोबल बढ़ाने के लिए इस योजना को लागू कर दिया गया है।

उत्तर प्रदेश चिकित्सा विभाग की सचिव वी. हेकाली झिमोमी ने इस संबंध में प्रदेश के सभी संबंधित अधिकारियों को आदेश जारी किया है। मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. रमेश चंद्र का कहना है कि पत्र मे कहा गया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत सरकारी अस्पतालों व चिकित्सा संस्थानों में कार्यरत वह चिकित्साकर्मी जो कोरोना के रोकथाम व चिकित्सा कार्य से जुड़ा है उसे विशेष बीमा योजना का लाभ प्रदान किया जाए। योजना के मुताबिक यदि कोई कर्मी कोरोना संक्रमित होकर किसी भी दुर्घटना का शिकार होता है तो उसे 50 लाख की बीमा की क्षतिपूर्ति दी जाएगी। बीमा योजना के लाभ के लिए दावा प्रपत्र देना होगा। मुख्य चिकित्साधिकारी ने बताया कि सरकार की इस व्यवस्था से कर्मचारियों का मनोबल बढ़ेगा। साथ ही संबंधित लोगों को इस योजना के प्रचार प्रसार के निर्देश भी दिए गए हैं।

इन्हें मिलेगा क्षतिपूर्ति योजना का लाभ

क्षतिपूर्ति योजना का लाभ निजी व सरकारी अस्पतालों में कार्यरत चिकित्सकों, विश्व स्वास्थ्य संगठन के कर्मियों, यूनिसेफ से जुड़े कर्मचारी, यूपीटीएसयू के सलाहकार व कर्मचारी , सामुदायिक स्वास्थ्य कर्मी जैसे आशा संगिनी व आशा कार्यकर्ता , एंबुलेंस चालक व ईएमटी को मिलेगा।

योजना का प्रचार-प्रसार कराएं जिम्मेदार

सचिव ने क्षतिपूर्ति का लाभ कर्मियों को भी दिए जाने का प्रचार-प्रसार करने का निर्देश जिले के डीएम व सीएमओ को दिया है। उन्होंने कहा है कि क्षतिपूर्ति को लेकर सारे कर्मियों को जानकारी प्रदान की जाए, ताकि सभी कर्मी उत्साह से कार्य करें।



Advertisement